पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Muzaffarpur
  • This Time The Speed Of Rain Is Reversed, In May It Was 5 Times The Normal And Doubled In June, So Far In The Month Of July Not Even A Third Of The Rain Has Rained.

4 दिन में बारिश होने की संभावना:इस बार उल्टी है बारिश की रफ्तार, मई में सामान्य से 5 गुनी व जून में दोगुनी हुई ताे जुलाई माह में अब तक एक तिहाई भी नहीं बरसा पानी

मुजफ्फरपुर21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मानसून आने के बाद से आमताैर पर हर वर्ष बारिश की रफ्तार तेज होती जाती है। लेकिन, इस साल उल्टा चल रहा है। मई के बाद से बारिश दिनाेंदिन कम हाे रही है। मई में जहां सामान्य से 5 गुनी बारिश हुई, वहीं जून में करीब दाेगुनी और जुलाई में घट कर यह एक तिहाई पर अा गई है। जबकि, जुलाई सर्वाधिक बारिश वाला महीना हाेता है। इस बीच तापमान लगातार बढ़ने और अत्यधिक उमस के कारण लाेगाें का जीना मुहाल है। दिन की धूप काफी तीखी निकल रही है ताे रात में ताे साेना मुश्किल हाे रहा है। एसी या कूलर गर्मी से राहत ताे देते हैं, लेकिन इससे सर्दी-बुखार या अन्य वायरल बीमारियां हाे रही हैं। इससे लाेग डर जा रहे हैं। उधर, मौसम विभाग ने अगले 4 दिनों तक भी सामान्य से कम बारिश हाेने की बात कही है।

तापमान व उमस बढ़ने से लाेग परेशान : एसी-कूलर चलाने पर हाे रहे बीमार, नहीं चलाएं ताे जीना मुहाल

ऐसे माैसम में कैसे सुकून से रहें, बता रहे हाेमियाेपैथ चिकित्सक डाॅ. कमर आलम

हाेमियाेपैथ चिकित्सक डाॅ. कमर आलम कहते है कि ऐसे माैसम में न केवल अत्यधिक गर्मी व उमस काे झेलना मुश्किल है, बल्कि वायरल सर्दी-बुखार, डायरिया, चर्म राेग भी परेशान करते हैं। एंफ्लुएंजा वायरल फीवर 103 से 104 तक चला जाता है। कफ एंड काेल्ड के साथ एक्सपाेजर हाेने की भी आशंका रहती है। घर में एक काे हाे जाए, ताे दूसरे भी चपेट में आ जाते हैं। लेकिन, रहन-सहन व खानपान में थाेड़ा बहुत परहेज व सही तरीका अपनाया जाए ताे इनसे बचाव हाे सकता है।

सुबह समय से जागें। स्नान दिन में ही करें, रात में करना नुकसानदेह हाेगा
भाेजन एेसा लें जाे अासानी से पचे, खुले में बिकनेवाले खाद्य पदार्थ न खाएं
फल जरूर खाएं, लेकिन वह न ताे ज्यादा पका हुअा हाे
एसी से सीधा धूप में न निकलें, ताकि बाॅडी का टेंपरेचर अचानक चेंज न हाे
साेते समय कूलर या फिर पंखे काे भी एेसे रखें कि हवा सीधा सिर में न लगे
स्किन डिजीज से बचाव के लिए बाॅडी काे ड्राई रखें, खुले बदन कभी न साेएं
कपड़े हर दिन चेंज करें अाैर काॅटन पहनें, एंटी सेप्टिक पाउडर-लाेशन लगाएं।

खबरें और भी हैं...