पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जीवन से खिलवाड़:साहेबगंज में मिड डे मील के लिए स्कूल को भेजे चावल के बोरे में प्लास्टिक राइस की मिलावट

साहेबगंज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बच्चाें के पौष्टिक आहार के लिए तैयार ‘फोर्टिफाइड’ किस्म का चावल हाे गया है मिक्स, एफसीआई के जिला गोदाम से साहेबगंज आई थी 500 बोरा चावल की खेप

सरकारी स्कूलों में मध्याह्न भाेजन के लिए चावल के बोरे में प्लास्टिक का चावल मिला कर ब्लॉक के एसएफसी गोदाम में भेजा गया है। इसका खुलासा साहेबगंज एसएफसी के गोदाम में आए दो बोरा चावल में मिले 3 किलाे प्लास्टिक जैसा चावल से हुआ। दरअसल, गोदाम में ट्रक से 500 बोरा चावल की खेप शुक्रवार को पहुंची। वहां पर मौजूद कुछ डीलरों ने गोदाम कर्मी से चावल की क्वालिटी दिखाने को कहा।

दो बोरा चावल को चेक करने पर 3 किलो प्लास्टिक जैसा चावल पाया गया। कर्मियों ने इसकी सूचना सहायक गोदाम प्रबंधक संतोष कुमार को दी। सहायक गोदाम प्रबंधक की जानकारी पर हरकत में आए एजीएम कांटी गिरधारी प्रसाद ने एफसीआई जिला गोदाम प्रबंधक नारायणपुर अनंत काे मामले से अवगत कराया। एजीएम गिरधारी प्रसाद ने बताया कि दो बोरा चावल में ऐसा मामला सामने आया है।

एक मुठ्ठी चावल निकालने पर दो से तीन दाने ऐसे मिले हैं। उसे अलग रखा गया है। जांच कराई जाएगी। जांच के बाद पता चलेगा कि प्लास्टिक का है या कुछ अन्य। बारिश में भींगने के कारण कुछ चावल का ऐसा रूप हो गया हाेगा। डीएसओ को भी मामले की जानकारी दे दी गई है। वहीं जिला गाेदाम प्रबंधक रमन कुमार ने बताया कि यह प्लास्टिक का चावल नहीं है। बच्चाें के पाैष्टिक आहार के लिए यह चावल (फोर्टिफाइड) तैयार कर आंगनबाड़ी केंद्राें पर आपूर्ति की जाती है। मिड डे मिल के लिए नहीं है। एसएफसी द्वारा आपूर्ति किए गए चावल में ऐसे चावल शायद मिक्स हाे गए हैं। साहेबगंज की सीडीपीओ संगीता कुमारी ने बताया कि साहेबगंज प्रखंड में फोर्टिफाइड किस्म का चावल अभी तक अांगनबाड़ी केंद्राें पर वितरण के लिए नहीं आया है।

मई में वितरण के लिए आया चावल सड़ा व कीड़ा युक्त था, डीएम ने शुरू कराई थी जांच
विदित हो कि मई माह में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना एवं खाद्य सुरक्षा योजना के तहत अनाज मुफ्त में दिया गया, लेकिन मई माह में राज्य खाद्य निगम से डीलरों को चावल की जो आपूर्ति की गई, वह घटिया, सड़ा व कीड़ा युक्त चावल था। विधायक डॉ. राजू कुमार सिंह राजू द्वारा इस मामले को उठाए जाने के बाद डीएम द्वारा जांच करवाने की प्रक्रिया चल ही रही है। जून माह में एक बार फिर प्लास्टिक का बना चावल मिक्स, चावल के बोरे की आपूर्ति एसएफसी गोदाम से साहेबगंज गोदाम में की गई है।

फोर्टिफाइड चावल में आम चावल के मुकाबले होते हैं अधिक पौष्टिक तत्व
मिलों के चावल में अधिकतर पोषक तत्वों की कमी होती है, जो मुख्य रूप से केवल कार्बोहाइड्रेट के स्रोत के रूप में काम करता है। एेसे में चावल को फोर्टिफाइड करने के लिए आयरन, फोलिक एसिड, विटामिन ए और विटामिन बी 12 का लेप चढ़ाया जाएगा। इसकी मात्रा इतनी होगी कि धोने और पकाने पर माइक्रो न्यूट्रिएंट्स की पर्याप्त मात्रा चावल में मौजूद रहे। भारतीय खाद्य सुरक्षा मानक प्राधिकरण के तय मापदंड के अनुसार फोर्टिफाइड चावल आम चावल के मुकाबले अधिक पौष्टिक होगा।

खबरें और भी हैं...