सड़क से सख्ती गायब:24 घंटे में 43 नए संक्रमित मिले, फिर भी लापरवाही, न मास्क न सोशल डिस्टेंसिंग

समस्तीपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रजिस्ट्री ऑफिस के सामने अधिकतर लोगों ने नहीं लगाया था मास्क। - Dainik Bhaskar
रजिस्ट्री ऑफिस के सामने अधिकतर लोगों ने नहीं लगाया था मास्क।
  • हर रोज जिले में दोगुना हो रहा है कोरोना से संक्रमितों का मामला

जिले में काेरोना रोज दोगुनी रफ्तार से बढ़ रही है। जनवरी महीने के प्रथम सप्ताह में ही कोरोना ने अधिकतर डॉक्टर व प्रशासनिक व पुलिस पदाधिकारियों को अपने चपेट में ले गया है। 3 जनवरी को जिले में कोरोना पॉजिटिव के 8 मामले सामने आये थे। 4 जनवरी को 9, 5 जनवरी को 19, 6 जनवरी को 31 व शुक्रवार को 43 नए संक्रमित मिले। इनमें सदर अस्पताल के दो डॉक्टर, समस्तीपुर सीओ, ताजपुर बीडीओ भी शामिल है। जिले के सिविल सर्जन सपरिवार दूसरी बार कोरोना संक्रमित हुए हैं। जबकि उनका पूरा परिवार वैक्सीनेट है।

सिविल सर्जन आवास व सर्किट हाउस के कर्मी भी कोरोना की चपेट में हैं। बावजूद लोग सचेत नहीं हो रहे हैं। प्रभारी सीएस डॉ गिरीश कुमार ने कहा कि सावधानी से ही कोरोना से बचा जा सकता है। इधर मॉकड्रिल के दौरान हैंड सेनेटाइजर, ऑक्सीजन सप्लाई एवं उपलब्धता की जांच, संक्रमित मरीज को मिलने वाली दवा की उपलब्धता की जानकारी ली। डॉ गिरीश कुमार ने पीआईसीयू के लिए अलग से जरनेटर कनेक्शन की जरूरत बताया। मौके पर डॉ नागमणि राज आदि थे।
कोरोना मरीजों के उपचार को लेकर हुआ मॉकड्रिल

कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए शुक्रवार को जिला प्रशासन की ओर से सदर एसडीओ रविंद्र कुमार दिवाकर ने कोविड वार्ड व ऑक्सीजन प्लांट का जायजा लिया। एसडीओ ने मॉकड्रील कराकर तैयारियों का पड़ताल किया। उधर, जिले के रोसड़ा, दलसिंहसरास, पटोरी अनुमंडलीय अस्पताल में कोविड मरीजों के उपचार को लेकर मॉकड्रील कराया गया। सदर अस्पताल में एसडीओ ने इमरजेंसी व डीसीएचसी में भर्ती की व्यवस्था एवं मौजूद संसाधनों का जायजा लिया। जिसमें संक्रमित मरीजों को एम्बुलेंस से लाने, अंदर ले जाने, कर्मी द्वारा जांच करने, बेड पर ऑक्सीजन चढ़ाने आदि का रिहर्सल भी कराया गया।

वैक्सीन की दोनों डोज लेने वाले भी हो रहे हैं ग्रसित

वरीय चिकित्सक डॉ फुलेंद्र भगत बताते हैं कि कोरोना थ्री ताकतवर होकर कर लौटा है। कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले लेने वाले लोगों को भी यह अपना शिकार बना रहा है। सर्दी, सूखी खांसी व तेज बुखार हो रहा है तो बिना कोई देर किए सरकारी अस्पताल जाय अथवा अपने डॉक्टर से मिलें।

जांच रिपोर्ट आने में देरी भी कोरोना के फैलाव का कारण

सदर अस्पताल के उपाधीक्षक डॉक्टर गिरीश कुमार ने बताया कि लोग सावधानी नहीं बरत रहे। इससे बचने के लिए मास्क के साथ ही सोशल डिस्टेंस ही एक मात्र उपाय है। इसके साथ ही साबुन अथवा सेनेटाइजर से हाथों की सफाई करते रहे। सर्दी खांसी व बुखार है तो तुरंत कोरोना की जांच कराएं।

खबरें और भी हैं...