पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

केंद्र को भेजा जाएगा रेंट:केवस निजामत में 50 शत्रु संपत्ति हुए चिह्नित, उपयोगकर्ता से 1965 से वसूला जाएगा रेंट, लीज के लिए होगी नीलामी प्रक्रिया

समस्तीपुर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक-एक साल के लीज पर दी जाएगी शत्रु संपत्ति की जमीन, केंद्र को भेजा जाएगा रेंट

जिला में मौजूद शत्रु संपत्ति के 75 से ज्यादा प्लॉटों का उपयोग जिलेवासी विगत 74 वर्षों से करते आ रहे हैं। अब उन्हें इस जमीन के मुफ्त उपयोग की कीमत चुकानी होगी। समस्तीपुर प्रखंड के केवस निजामत में ऐसे 50 प्लॉट चिह्नित किए गए हैं। जो 1 बीघा 1 कट्ठा 18 धूर है। जिसका उपयोग आजादी के बाद से लोग कर रहे हैं। ऐसे लोगों से 1965 से अब तक का जमीन का रेंट वसूल किया जाएगा। यह रेंट अप्रैल 2013 की कीमतों के आधार पर घटते क्रम में पिछले 74 वर्ष का लिया जाएगा। बताया जाता है कि शत्रु संपत्ति की जमीन को सरकार अब लीज पर देकर रेंट वसूल करेगी। जिसे केंद्र सरकार को भेजा जाएगा। यह लीज 1-1 साल के लिए होगी। प्रत्येक साल नोटिस के माध्यम से लीज को दूसरे व्यक्ति को दिया जाएगा। ताकि न तो एक व्यक्ति का उस पर स्वामीत्व रह सके, न ही उस जमीन पर कोई स्थाई निर्माण ही कराया जा सके।

रहीमाबाद में है शत्रु संपत्ति के 25 प्लॉट मौजूद | दूसरी शत्रु संपत्ति ताजपुर प्रखंड के रहीमाबाद में 5 बीघा के 25 प्लॉट के रूप में चिह्नित की गई है। इनपर दखल किए लोगों की पहचान नहीं हुई है।

संपत्ति का नहीं था 1947-72 के बीच कोई दावेदार | बताया जाता है कि ऐसी संपत्ति जिसका 1947-72 के बीच या अब तक कोई दावेदार नहीं रहा है। ऐसी संपत्ति पर रेंट की वसूली की जाएगी।

शत्रु संपत्ति के दखलकारों को किया जा रहा चिह्नित
जिला में मौजूद शत्रु संपत्ति के दखलकारों को चिह्नित किया जा रहा है। उनसे 1965 से अब तक का रेंट वसूला जाएगा। वहीं लीज पर जमीन देकर रेंट केंद्र को भेजा जाएगा। केवस निजामत में चिह्नित हुए जमीन पर रेंट वसूली की कार्रवाई जल्द की जाएगी।विनय कुमार राय, एडीएम

​​​​​​​

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आर्थिक दृष्टि से आज का दिन आपके लिए कोई उपलब्धि ला रहा है, उन्हें सफल बनाने के लिए आपको दृढ़ निश्चयी होकर काम करना है। कुछ ज्ञानवर्धक तथा रोचक साहित्य के पठन-पाठन में भी समय व्यतीत होगा। ने...

    और पढ़ें