जागरूक रहें:बस पड़ाव से स्टेशन तक कहीं नहीं हो रहा कोरोना गाइड लाइन का पालन

समस्तीपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बस पड़ाव पर बस के अंदर मास्क के बिना मौजूद सभी यात्री। - Dainik Bhaskar
बस पड़ाव पर बस के अंदर मास्क के बिना मौजूद सभी यात्री।
  • कोरोना की तीसरी लहर को लेकर 1 दिसंबर से कराया जाना था गाइड लाइन का पालन

देश में कोरोना के नए स्वरूप ने दस्तक दे दी है। इसे राज्य सरकार की ओर से भी कोरोना की तीसरी लहर मानते हुए बीते एक दिसंबर से ही हर जिला में कोरोना गाइड लाइन का पालन कराने का निर्देश जिला प्रशासन को दे दिया है। इसमें मुख्य रूप से विद्यालयों, सरकारी कार्यालयों, बस पड़ाव, स्टेशन, अस्पताल व बाजार आदि में इसका अनिवार्य रूप से पालन कराना है। इसके बावजूद जिला प्रशासन लापरवाह बना हुआ है। बताया जाता है कि राज्य सरकार के निर्देश के बाद भी आज जिला के बस पड़ाव, सरकारी कार्यालय, स्टेशन, अस्पताल, बाजार आदि जगहों पर 80 फीसदी व उससे ज्यादा लोग मास्क के बिना ही दिख रहे हैं। वहीं इसको लेकर प्रशासन की ओर से अभी तक किसी प्रकार की रणनीति व क्रियाकलाप की घोषणा या रूपरेखा तय नहीं की गई है। वहीं लोग भी लापरवाह बने हुए हैं। ऐसी स्थिति में प्रशासन की लापरवाही का लोगों को गंभीर परिणाम भुगतना पड़ सकता है।
किराना सहित आवश्यक दुकानों पर नहीं है सोशल डिस्टेंसिंग : बताया जाता है कि बाजार में किराना, दूध, सब्जी सहित अन्य आवश्यक चीजों की दुकानों पर कहीं भी सोशल डिस्टेंसिंग नहीं दिखाई देती। लोग लापरवाह होकर दुकानों पर भीड़ का हिस्सा बन रहे हैं। जबकि प्रशासन को मुश्तैद होकर दुकानों में गोल घेरा का पालन करा कर लोगों के बीच सोशल डिस्टेंस कायम कराना है।

स्टेशन व बस पड़ाव पर नहीं दिखाई देती कर्मियों की मुश्तैदी

दूसरी ओर सबसे ज्यादा भीड़ वाली जगहों स्टेशन, बस व ऑटो स्टैंड पर स्वास्थ्य कर्मियों की मुश्तैदी नहीं दिखाई देती। वहीं वहां मास्क व सोशल डिस्टेंस का पालन कराने के लिए भी कोई पुलिस ही मौजूद रहती है। लोग बस, ऑटो व ट्रेन में मास्क के बिना ही सफर कर रहे हैं। अभी की लापरवाही आगे भारी पड़ सकती है।

तीसरी लहर में लोगों को सचेत रहना आवश्यक

^कोरोना के नए स्वरूप को लेकर सरकार से लेकर स्वास्थ्य विभाग तक हरकत में है। ऐसे में लोगों को सचेत रहने की आवश्यकता है। वे कहीं भी भीड़ का न बनें, मास्क का प्रयोग करें व सामाजिक दूरी बनाकर रखें। विभागीय निर्देश पर प्रशासन कड़ाई करेगी।
-रविन्द्र कुमार दिवाकर, एसडीओ

खबरें और भी हैं...