नवमीं पर सिद्धिदात्री की पूजा आज:मां का पट खुलते ही पूजा-अर्चना के लिए उमड़े भक्त

समस्तीपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मोहिउद्दीननगर के रेलवे स्टेशन के पास मनोकामना दुर्गा मंदिर। - Dainik Bhaskar
मोहिउद्दीननगर के रेलवे स्टेशन के पास मनोकामना दुर्गा मंदिर।
  • कालरात्रि की पूजा के साथ ही श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए नेत्रपट खोल दिया गया

अनुमंडल क्षेत्र स्थित मंदिरों, घरों व पूजा-पंडालों में माता के सप्तम रूप मां कालरात्रि की पूजा-अर्चना के साथ ही श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए पट खोल दिया गया। इसको लेकर काली स्थान स्थित जन कल्याण दुर्गा पूजा समिति द्वारा आयोजित माता के छप्पन भोग में देर रात तक श्रद्धालुओं की भीड़ जुटी रही। इधर पट खुलने के बाद बुधवार की सुबह से ही महिलाएं जहां खोइचा भरने में जुटी रहीं। वहीं श्रद्धालुओं की भीड़ माता के दर्शन के लिए उमड़ पड़ी। पूजा को लेकर सभी जगहों पर भक्तिमय माहौल बना हुआ दिखा। इस दौरान माता के गीतों से क्षेत्र गुंजायमान हो रहा था।

शहर के मालगोदाम रोड, थाना रोड, 33 नंबर रेलवे गुमटी के उस पार, काली चौक, बिस्कोमान चौक, 32 नंबर रेलवे गुमती के पास, भगवानपुर चकशेखु, मां वैष्णवी मनोकामना मंदिर, बाजार समिति के समीप, डैनी चौक, सरदारगंज चौक, गोलापट्टी, काली स्थान व रामाश्रय नगर सहित ग्रामीण इलाकों में श्रद्धालुओं की भीड़ देखी गई। वहीं क्षेत्र में कई जगहों पर दशहरा के दिन होने वाले रावण बद्ध को लेकर विभिन्न कमेटी के कार्यकर्ता तैयारी में जुटे हुए थे।

इधर, पर्व को लेकर हाट-बाजारों में श्रद्धालु पूजा की सामग्रियों की खरीददारी में जुटे रहे। पूजा को लेकर विभिन्न पूजा समितियों के जयंत कुमार चौधरी, हरिओम प्रसाद, श्रवण कुमार साह, विकास कुमार खन्ना, चन्दन कुमार साह, सुनील कुमार बमबम, चंदन प्रसाद, अनिल कुमार, विनोद कुमार प्रसाद, संजय सोनी, जगन्नाथ प्रसाद, धीरज कुमार उपाध्याय, राजीव सर्राफ, गुड्डू जी, रजनीश कुमार, उपेंद्र साह उर्फ ओपी, संजीत कुमार उर्फ भगत जी, राजन कुमार, प्रेम कुमार आदि कार्यकर्ता जुटे थे।

वेतन के अभाव में शिक्षकों की दुर्गा पूजा फीकी

इस वर्ष वेतन के के अभाव में नियोजित शिक्षकों की दुर्गा पूजा फीकी पड़ गई है। विगत तीन माह से नियोजित शिक्षकों का वेतन भुगतान नहीं हो पाया है। ऐसे में शिक्षकों का मकान किराया ,बच्चों के नए कपड़े ,पठन-पाठन का खर्च, बूढ़े माता-पिता एवं परिवार के अन्य सदस्यों के इलाज का खर्च जुटाना जहां मुश्किल हो रहा है। वहीं शिक्षक आसमान छूती महंगाई के बीच जीने के लिए जरूरी खाद्य पदार्थों ,रसोई गैस और पेट्रोल के खर्च के लिए शिक्षक महाजन से मोटे ब्याज पर कर्ज लेने को मजबूर हैं । शिक्षकों की मानें तो इतने अल्प वेतन वह भी समय से न मिल पाने से शिक्षकों एवं उनके परिजनाें के बीच भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है। पंचायत नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि विभागीय उदासीनता के कारण तीन माह से वेतन के अभाव में नियोजित शिक्षकों की जीवन रेल पटरी हो गई है।

शिक्षकों को नहीं मिला वेतन पर्व रहेगा फीका, संघ ने जताई चिंता

दो महीने से शिक्षकों को वेतन नहीं मिलने से शिक्षक पर्व में आश लगाए बैठे रहे। लेकिन अबतक यह संभव नहीं हो सका। प्रखंड के शिक्षकों ने वेतन नहीं मिलने पर निराशा जताते हुए आगे आंदोलन करने की बात कही। शिक्षकों ने कहा कि सरकार नियोजित शिक्षकों को दुश्मन की तरह देख रही है। एक वर्ष से अधिक समय बाद भी वेतन भुगतान में अनियमितता बरकरार है। शिक्षक व उनके परिवार की दुर्गा पूजा जैसी महान पर्व भी फीकी ही रहेगी। संघ के प्रखंड अध्यक्ष अमरनाथ चौधरी ने बताया कि सरकार की शिक्षक विरोधी नीति व जिला पदाधिकारी की मनमानी की वजह से वेतन भुगतान नहीं हो पाई। उन्होंने कहा कि दुर्गा पूजा बाद आंदोलन को विवश होंगे। सचिव प्रमोद कुमार सिंह,निशाद अहमद, मनोज साह, रमेश पासवान, राजदेव राय सहित अन्य शिक्षकों ने बताया कि ससमय वेतन नहीं मिलने के अलावे शिक्षकों को गौर शैक्षणिक कार्यों में झोंकने के कारण शिक्षा व्यवस्था भी चरमरा रही है।

खबरें और भी हैं...