पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

खतरा:हरिहरपुर खेढ़ी गांव में रतजगा कर जेनरेटर की राेशनी में बांध की निगरानी कर रहे हैं लाेग

समस्तीपुर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गंडक नदी का बढ़ रहा जलस्तर, 1987 व 2004 की बाढ़ से अधिक हो गया पानी
Advertisement
Advertisement

प्रखंड क्षेत्र से होकर गुजरने वाली बुढ़ी गंडक नदी में पानी की बढ़ती उफान से लोगों में दहशत बढ़ता ही जा रहा है। बांध की जर्जरता के वजह से लोगों की नींद उड़ गई है। हरिहरपुर खेढ़ी में लोग रतजगा कर बांध पर जेनरेटर की रोशनी में पूरी रात बांध की निगरानी करने में जुटे हैं।जिस प्रकार से बांध व स्लुइस गेट में जगह-जगह रिसाव हो रहा है, उससे लोग काफी भयभीत हैं। लोगों का बताना है कि नदी में पानी इस बार काफी तेजी से बढ़ रही है। एक स्लुइस गेट के पास पानी की ऊंचाई देखकर लोगों ने बताया कि इस बार वर्ष 1987 व 2004 में नदी में आई पानी का लेवल भी पार कर गया है। इससे बाढ़ आने की प्रबल संभावना को देखते हुए सहमे हैं। लोगों का मानना है कि बांध में जगह-जगह रिसाव से खतरा बनता ही जा रहा है।

इसलिए रातभर जग कर बांध की निगरानी करते हैं। जहां भी रिसाव होते देखा जाता है, वहां तुरंत उसकी मरम्मत करने का प्रयास किया जा रहा है। अगर इस ओर ध्यान नहीं दिया जाएगा तो पूरा प्रखंड कब जलमग्न हो जाएगा इसका अंदाजा नहीं है। नदी के पानी से पहले ही सैकड़ों एकड़ की फसल बर्बाद हो चुकी है। अगर बाढ़ आती है तो लोगों को काफी क्षति हो सकती है। फसल व मवेशी का चारा डूबने से पशुपालक के पहले ही कमर टूट गई है।

झाझा पुल की दीवार से हो रहा अधिक रिसाव
जानकारी के अनुसार सिवैसिंहपुर में झाझा पुल से विगत तीन दिनों से पानी का रिसाव तेजी से हो रहा है। पुल के दीवाल के बीच होकर पानी की मोटी धार झरना के तरह गिर रहा है। लेकिन लोगों को पानी किस जगह से आ रही है, इसका पता नहीं चल पाया है। लोगों में दहशत है कि अगर इसी तरह पानी का रिसाव होता रहा तो पुल क्षतिग्रस्त होकर कभी भी क्षेत्र जलमग्न हो सकता है। लोगों ने दीवाल में रिसाव वाली जगह में मोटी लकड़ी डालकर पानी को रोकने का प्रयास किया। लेकिन पानी की ठोकर से वह भी काम नहीं आया।

Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement