पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आफत:हसनपुर में करेह नदी का जलस्तर उफान पर, खेतों में पहुंचा पानी, सिरसिया गांव पर मंडराया बाढ़ का खतरा

समस्तीपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बाढ़ के पानी से घिरे नदी की पेटी में बसे गांव, पगडंडियों पर दो से तीन फीट तक बह रहा पानी

भास्कर न्यूज| हसनपुर
प्रखंड क्षेत्र से होकर बहने वाली करेह नदी का जलस्तर उफान पर है। बारिश थमने के बाद भी नदी के जलस्तर में काफी बढ़ोतरी हो रही है। इस कारण नदी की पेटी में बसे हुए सिरसिया गांव पर बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। पानी नदी से निकलकर सिरसिया गांव के बाहर खेतों में पहुंच गया है।‌ गांव चारों तरफ से बाढ़ के पानी से घिर गया है। गांव के एक छोर से दूसरे छोर तक जाने वाली पगडंडियों पर बाढ़ का पानी फैल गया है। पगडंडियों पर फैले हुए दो से तीन फीट पानी से होकर लोग गांव के एक छोर से दूसरे छोर तक पहुंचते हैं। पिछले दिनों की अपेक्षा इन दिनों करेह नदी के जलस्तर में हो रही तेजी से बढ़ोतरी के कारण ऐसा अंदाजा लगाया जा रहा है कि अगले दो दिनों में बाढ़ का पानी गांव में प्रवेश कर जाएगा। इस आशंका से गांव के लोग ऊंचे स्थलों पर शरण लेने की तैयारी में जुट गए हैं। 
5 महीने तक बाढ़ प्रभावित रहता है सिरसिया गांव, परेशान होते हैं लोग
प्रखंड के भटवन पंचायत का सिरसिया गांव करेह नदी के पेंटी व तटबंध पर बसा हुआ है। करीब 4000 लोगों की आबादी वाले इस गांव का आधा हिस्सा नदी की पेटी में व आधा हिस्सा तटबंध पर बसा हुआ है। नदी की पेटी में बसे होने के कारण प्रत्येक साल नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी होने पर यह गांव बाढ़ की चपेट में आ जाता है। प्रत्येक साल जुलाई-अगस्त से लेकर नवंबर तक गांव में बाढ़ का पानी फैला रहता है। इस दौरान सिरसिया गांव के लोग अस्थाई रूप से गांव छोड़ अपने मवेशियों के साथ सिरसिया बांध पर शरण लेने को विवश होते हैं। गांव स्थित सरकारी विद्यालय व मस्जिद का भवन भी बाढ़ पीड़ितों के लिए शरणस्थली का काम करता है। कुल मिलाकर 5 महीने तक सिरसिया गांव के लोगों के बीच बाढ़ के कारण आवास, भोजन व पेयजल की समस्या उत्पन्न रहती है।

बाढ़ से बचाव के लिए प्रशासन तैयार, सामुदायिक किचन के लिए विद्यालय का किया गया चयन
बाढ़ की आशंका को लेकर प्रखंड प्रशासन की ओर से पहले ही बाढ़ से बचाव के लिए प्रबंधन की रूपरेखा तैयार की जा चुकी है। इसके तहत बाढ़ पीड़ितों व मवेशियों के आवासन स्थल के रूप में सिरसिया बांध, सिरसिया विद्यालय का चयन किया जा चुका है। इनमें सामुदायिक किचन के लिए विद्यालय का चयन किया गया है। बाढ़ को लेकर सिरसिया में नाव के परिचालन के लिए रूटों का भी निर्धारण किया जा चुका है। बेलौन ढ़ाला, सिरसिया ढ़ाला सहित तीन रूटों में नाव का परिचालन किया जा रहा है। सिरसिया गांव को आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से बाढ़ प्रभावित क्षेत्र घोषित किया जा चुका है। 
करेह नदी के जलस्तर में हो रही बढ़ोतरी के कारण बाढ़ की स्थिति पर नजर रखा जा रहा है। पंचायत प्रतिनिधियों से इसकी जानकारी ली जा रही है। प्रबंधन को लेकर प्रशासनिक तैयारी पूरी है।
दुनिया लाल यादव, बीडीओ, हसनपुर।

करेह के दाएं तटबंध के फुहिया ढाला में हो रहा है कटाव

बिथान। प्रखंड क्षेत्र से होकर बहने वाली करेह नदी के दाएं तटबंध के फुहिया ढाला के दोनों ओर से पिछले दो दिनों से पानी के तेज बहाव होने के कारण कटाव हो रहा है। कटाव होने के कारण यह ढ़ाला ध्वस्त होने के कगार पर है। बताया जाता है कि सलहा चंदन पंचायत अंतर्गत करेह नदी तटबंध के इस फुहिया ढाला से होकर 4 जिले समस्तीपुर, खगड़िया, दरभंगा, सहरसा के कई गांवों के लोगों का आवागमन होता है। कटाव के कारण यदि यह ढाला पूरी तरह ध्वस्त हो जाए, तो लोगों का आवागमन ठप हो जाएगा।

कटाव के कारण ध्वस्त होने के कगार पर फुहिया ढाला।
कटाव के कारण ध्वस्त होने के कगार पर फुहिया ढाला।

इस कारण कई गांवों का एक दूसरे से संपर्क भंग हो जाएगा। बताया जाता है कि पिछले साल ही बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल-2 खगड़िया के द्वारा इस ढाला का निर्माण किया गया था। लेकिन गुणवत्ता पूर्ण रूप से निर्माण कार्य नहीं होने का ही परिणाम है कि कटाव के कारण ढाला ध्वस्त होने के कगार पर आ गया है।‌ इस संबंध में सीओ राजीव रंजन ने कहा इस ढाला का मरम्मतीकरण जलसंसाधन विभाग की ओर से किया जा सकता है। ऐसे वरीय पदाधिकारी को इस समस्या के बारे में लिखा जाएगा। आदेशानुसार मरम्मत के लिए कोई पहल    संभव है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपका अधिकतर समय परिवार तथा फाइनेंस से जुड़े महत्वपूर्ण कार्यों में व्यतीत होगा। और सकारात्मक परिणाम भी सामने आएंगे। किसी भी परेशानी में नजदीकी संबंधी का सहयोग आपके लिए वरदान साबित होगा।। न...

    और पढ़ें