मई में 12 दिन शादी का मुहूर्त:कल से खरमास, अब 22 तक नहीं बजेगी शहनाई

समस्तीपुर/दरभंगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वर्तमान वर्ष का अंतिम लग्न13 दिसंबर को खत्म हो चुका है। 16 दिसंबर से खरमास की शुरुआत होने के कारण अब 22जनवरी तक शादी विवाह सहित अन्य मांगलिक कार्य नहीं होंगे। अब फिर 23 जनवरी से मांगलिक कार्यों का शुभारंभ होगा। अब आने वाले नए वर्ष 2022 में विवाह का शुभ मुहूर्त 43 दिन है । 23 जनवरी से 8 जुलाई तक शादी के दिन हैं। सिर्फ मार्च माह में विवाह का दिन नहीं है। शास्त्रीय व सामाजिक परंपरा के अनुसार खरमास को लोग निषेध मानकर इस अवधि में विवाह, मुंडन आदि शुभ कार्य नहीं करते हैं। 16 दिसंबर से सूरज धनु राशि में प्रवेश कर रहे हैं। इस दिन से पौष मास आरंभ हो रहा है। पौष मास में भी शुभ कार्य वर्जित किया गया है।

इसलिए पंचांग में अशुद्ध मास का आरंभ 16 दिसंबर से हो रहा है जो 15 जनवरी तक रहेगा। उसके बाद 17 जनवरी से शुद्ध मास का प्रारंभ होगा जिसमें शुभ कार्य किए जा सकेंगे। आचार्य विनय कुमार मिश्र बताते हैं कि उक्त अशुद्ध मास को खरमास कहा जाता है। इसे गदहमास भी कहा जाता है। ज्योतिष शास्त्र की ऐसी मान्यता है कि नवग्रहों के राजा सूरज देवताओं के गुरु वृहस्पति देव की राशि धनु और मीन में गोचर करते हैं तब तक खरमास होता है इसमें किसी भी प्रकार का शुभ कार्य वर्जित होता है। वैसे खरमास में पूजा पाठ एवं अन्य धार्मिक कार्य किए जाते हैं किंतु संस्कार जन शुभ कार्य का निषेध शास्त्रों में किया गया है।

खबरें और भी हैं...