पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

माैसम पूर्वानुमान:23 जून तक सक्रिय रहेगा मानसून, उत्तर बिहार के अधिकतर जिलों में जारी रहेगी बारिश

समस्तीपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शुक्रवार को बारिश से पूर्व बूढ़ी गंडक नदी पर छाए मानसून के काले घने बादल। - Dainik Bhaskar
शुक्रवार को बारिश से पूर्व बूढ़ी गंडक नदी पर छाए मानसून के काले घने बादल।
  • 24-48 घंटे में बेगूसराय, पूर्वी व पश्चिमी चंपारण, गोपालगंज व सारण में हो सकती है भारी बारिश, 10-15 किलोमीटर की रफ्तार से पूरवा हवा चलने की संभावना

जिला में 14 जून को सक्रिय हुआ मानसून का प्रभाव अब दिखने लगा है। बीते पांच दिनों से प्रतिदिन बारिश हो रही है। वहीं इसके आगे भी सक्रिय रहने की संभावना जताई जा रही है। इसको लेकर ग्रामीण कृषि मौसम सेवा विभाग पूसा व भारत मौसम विज्ञान विभाग की ओर से शुक्रवार को 19-23 जून का मौसम पूर्वानुमान जारी किया गया है। जिसके अनुसार आगामी 23 जून तक मानसून सक्रिय रहेगा। इसके कारण उत्तर बिहार के अधिकतर जिलों में हल्की से मध्यम वर्षा हो सकती है। वहीं मौसम विभाग ने अगले 24-48 घंटे में बेगूसराय, पूवी व पश्चिमी चंपारण, गोपालगंज व सारण जिलों के कुछ स्थानों पर भारी वर्षा होने की संभावना जताई है। इस दौरान अधिकतम तापमान 30-33 डिग्री सेल्सियस के बीच रहने का अनुमान है। जबकि न्यूनतम तापमान 20-23 डिग्री सेल्सियस के बीच रहेगा। वहीं पूर्वानुमानित अवधि में 10-15 किलोमीटर की रफ्तार से मुख्य रूप से पूरबा हवा चलने की संभावना है।

तीन दिनों में रिकार्ड की गई 115.6 एमएम बारिश

बताया गया कि मानसूनी प्रभाव से बीते तीन दिनों में 115.6 एमएम वर्षा रिकार्ड की गई है। जिसमें 15 जून व 16 जून को 36.7 एमएम, 17 जून को 21 एमएम व 18 जून को 21.4 एमएम बारिश रिकार्ड की गई। बताया जाता है कि यह आगे जारी रहेगा।

चार डिग्री कम रहा तापमान
लागातार जारी बारिश से तापमान में गिरावट आई है। जिससे शुक्रवार को अधिकतम तापमान सामान्य से 4.1 डिग्री सेल्सियस कम रहकर 31.1 डिग्री सेल्सियस रहा। वहीं न्यूनतम तापमान सामान्य से लगभग एक डिग्री कम रहकर 24.5 डिग्री किया गया।

कहीं-कहीं तेज बारिश की संभावना
^आगामी 23 जून तक मानसून के सक्रिय रहने से बारिश जारी रहेगी। इस दौरान अधिकांश जगहों पर माध्यम जबकि 24-48 घंटे में बेगूसराय व चंपारण आदि क्षेत्रों में भारी बारिश की संभावना है। किसान वैज्ञानिक सलाह के अनुकूल ही कृषि व्यवहार करें। -डॉ. अब्दुस सत्तार, मौसम वैज्ञानिक, आरएनएयू, पूसा
​​​​​​​

खबरें और भी हैं...