डीआरएम ने किया उद्घाटन:मंडलीय रेल अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट लग रहा, 500 ली. प्रति मिनट होगा उत्पादन

समस्तीपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंडलीय रेल अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट का उद्घाटन करते डीआरएम अन्य। - Dainik Bhaskar
मंडलीय रेल अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट का उद्घाटन करते डीआरएम अन्य।
  • ऑक्सीजन की बाहरी निर्भरता होगी खत्म, प्रधानमंत्री केयर फंड से निर्माण

रेलवे कर्मियों को अब अपाद स्थिति में ऑक्सीजन के लिए बाजार में भटकना नहीं पड़ेगा। मंडलीय रेल अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट मंगलवार से शुरू हो गया। दयाराम आलोक अग्रवाल ने फीता काटकर ऑक्सीजन प्लांट का उद्घाटन किया। ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण प्रधानमंत्री केयर फंड से कराया जा रहा है। इस यूनिट से प्रति मिनट 500 लीटर ऑक्सीजन का निर्माण होगा। इसका उपयोग पाइप लाइन के द्वारा रेलवे अस्पतालों के मरीजों के उपचार में होगा। मौके पर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी सुबोध मिश्रा, डॉक्टर शैलेंद्र कुमार, डॉ मनीष कुमार आदि उपस्थित थे।
12 हजार लीटर के 32 ऑक्सीजन सिलेंडर भरने की होगी क्षमता : मंडीलय रेल अस्पताल परिसर में प्रधान मंत्री केयर फंड से करीब 80 लाख रुपए की लागत से ऑक्सीजन प्लांट बनाया जा रहा है। इरकॉन बेस निर्माण का कार्य कर रही है। इस ऑक्सीजन प्लांट में 12 हजार लीटर के 32 सिलेंडर भरे जाएंगे। प्लांट से प्रतिदिन 500 लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन होगा। अस्पताल परिसर में पाइपलाइन के माध्यम से सप्लाई दी जाएगी। उन्होंने कहा कि आगे कभी भी ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी।

कोरोना से 22 रेलवे कर्मी की हो गई थी मौत

दूसरी लहर में रेलवे मंडल के 22 रेल कर्मियों की मौत कोरोना से हो गई थी। इसमें से 15 की मौत मंडलीय रेल अस्पताल व 7 की मौत दूसरे स्थानों पर उपचार के दौरान हुई थी। 1000 से अधिक रेलवे कर्मी व उनके परिवार के लोग कोरोना से पीड़ित हुए थे। कोरोना काल में रेलवे कर्मी व उनके परिवार के लोगों को ऑक्सीजन के लिए इधर-उधर भटकना पड़ा था। रेलवे अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट बनने से अब उन्हें सहुलियत होगी।
रेलवे मंडल के सभी कर्मी हो चुके वैक्सीनेट
रेलवे मंडल में करीब 11 हजार रेलवे कर्मी कार्यरत हैं। मंडल के सभी रेलवे कर्मियों को कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज दिया जा चुका है।

खबरें और भी हैं...