प्रखंड पशु अस्पताल:पैक्स गोदाम से निकल कर कृषि कार्यालय में शिफ्ट हुआ

खानपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रखंड स्तरीय पशु अस्पताल को मिली

प्रखंड स्तरीय पशु अस्पताल का दो दशक बाद भी अपना भवन नहीं है। भोरेजेराम पंचायत स्थित उच्च विद्यालय भोरेसाहपुर से उत्तर पंचायत कृषि कार्यालय के एक कमरे में आधी जगह में अस्पताल संचालित हो रहा है। उसी कमरे के आधी जगह में कृषि कार्यालय भी चल रहा है। इससे चिकित्सकों के साथ-साथ पशुपालकों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

आलम यह है कि समुचित व्यवस्था नहीं रहने के कारण चिकित्सकों को कठिनाइयों का सामना करना पर रहा है। 20 वर्षों से यह अस्पताल येन-केन-प्रकारेण संचालित है, मगर अबतक यहां अस्पताल नहीं बन पाया है।

समस्या इतनी है कि पशु से सम्बन्धित विभिन्न प्रकार की दवाइयां यत्र-तत्र कचरे की तरह पड़ी रहती है। इसी के बीच बैठकर चिकित्सक पशु का इलाज करने पर मजबूर होते हैं। आलम यह है कि अपना भवन नहीं होने के कारण पशुओं का गर्भाधान भी नहीं हो पा रही है।

जिस कृषि कार्यालय में पशु अस्पताल संचालित है वहां ना तो शौचालय की व्यवस्था है और ना ही पीने के लिए पानी की। अपनी पशु की समस्या को लेकर आए पशुपालकों व चिकित्सकों एवं कर्मियों को खुले में शौच जाने को मजबूर होना पड़ता है। पीने के लिए पानी की व्यवस्था नहीं होने के कारण लोगों को परेशानी होती है।

चिकित्सक व कर्मियों को पानी की व्यवस्था अपना करके आना पड़ता है। चिकित्सकों को भी एक जैसी परेशानियों से जूझना पड़ता है। सबसे अधिक परेशानी महिला पशुपालकों की होती जब उसे बाहर परदे को ओट तलाशने पर मजबूर होना पड़ता है।

खबरें और भी हैं...