कोरोना अपडेट / यात्रियों ने बताया- बाहर जाते हुए पहली बार लग रहा है डर, पर जॉब की मजबूरी है

Passengers told- For the first time going out, I am afraid, but the helplessness of the job
X
Passengers told- For the first time going out, I am afraid, but the helplessness of the job

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 05:00 AM IST

समस्तीपुर. पेट की मजबूरी नहीं होती तो घर छोड़ कर नहीं जाता, कंपनी से भी बार-बार फोन आ रहा है, मैनेजर कहते हैं नहीं आओगे तो तुम्हारी जगह दूसरे को रख लूंगा। क्या करूं कोरोना है तो पेट भरना व परिवार का सपना पूरा करना भी जिम्मेवारी है। यह कहते हुए मिरचाई पट्‌टी सीतामढ़ी के विकास कुमार की आंखें भर जाती है। विकास की शादी आठ मार्च को उजियारपुर के भगवानपुर भट्ठी चौक के पास काजल कुमारी के साथ हुई थी। विकास पत्नी के साथ दिल्ली जा रहे थे। शहर के बहादुरपुर के अभिषेक कुमार छतरपुर दिल्ली में रहते हैं वह एक सीमेंट की फैक्ट्री में काम करते हैं।

होली पर घर लौटे थे लेकिन लॉकडाउन में समस्तीपुर में ही फंस गए थे। अभिषेक कहते हैं दिल्ली नहीं लौटा तो नौकरी नहीं रहेगी। केरल निवासी शिवेन पेट्रिक समस्तीपुर के एक मिशनरी स्कूल में अंग्रेजी के शिक्षक हैं। स्कूल बंद है। स्कूल जुलाई से पहले खुलने की उम्मीद नहीं है। इस कारण वह अपने बच्चे मां- बाप से मिलने के लिए वापस केरल जा रहे हैं। स्कूल खुलने पर वापस लौटने का विचार करेंगे। यह तो चंद उदाहरण है 70 दिनों बाद सोमवार को दिल्ली की ओर शुरू हुई ट्रेन सेवा के पहले दिन दरभंगा-नई दिल्ली बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस में अधिकतर लोग वैसे ही सवार हुए जिन्हें कोरोना से ज्यादा अपने परिवार के भविष्य की चिंता सता रही थी। 

विकास, अभिषेक ने बताया- भविष्य की चिंता में जाना पड़ रहा है

  • आरपीएफ के कमांडेंट व रेल डीएसपी थी मौजूद

समान्य रेल सेवा के पहले दिन होने के कारण आरपीएफ के अलावा जीआरपी सतर्क थी। मंडल सुरक्षा आयुक्त अंशुमान त्रिपाठी व रेल डीएसपी स्मिता सुमन सुबह से ही दलबल के साथ स्टेशन पर तैनात दिखी। सुरक्षा कर्मियों ने प्लेटफार्म पर यात्री के अलावा उनके संबंधियों को भी स्टेशन के अंदर प्रवेश नहीं दी। परिवार के लोगांे को बाहर से ही लौटा दिया गया। ट्रेन में सवार होने से पूर्व यात्रियों की हुई स्क्रीनिंग, कंफर्म टिकट वाले ही हुए सवार ट्रेन में सवार होने से पूर्व सभी यात्रियों के पहले काउंटर पर टिकट की जांच कर रेलवे कर्मी संतुष्ट हुए कि टिकट कंफर्म है अथवा नहीं। जिन यात्रियों का टिकट का मिलान पीएनआर से कर लिया गया, उन्हें दूसरे काउंटर पर स्क्रीनिंग के लिए भेजा गया। रेलवे कर्मियों ने यात्रियों थर्मल जांच के बाद ट्रेन में प्रवेश करने दिया। 

  • पंजाब के सोना व कपड़ा कारोबारी भी लौटे 

दिल्ली के लिए खुली पहली ट्रेन में दिल्ली, पंजाब के स्वर्ण व कपड़ा कारोबारी भी सवार हुए जो तगादा के लिए समस्तीपुर में फंसे हुए थे। लोगों ने बताया कि अधिकतर लोग कारोबारी मित्र के यहां रह रहे थे। ट्रेन सेवा शुरू होते वापस जा रहे हैं। ट्रेन में पंजाब के भी स्वर्ण कारोबारी दिखे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना