• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Samastipur
  • The Building Of All The 6 Old High Schools Of Hasanpur Is On The Verge Of Being Dilapidated, The Responsible Does Not Care

विडंबना:हसनपुर के सभी 6 पुराने उच्च विद्यालयों का भवन जर्जर होने के कगार पर, जिम्मेदार को फिक्र नहीं

समस्तीपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
उच्च विद्यालय पटसा का जर्जर भवन। - Dainik Bhaskar
उच्च विद्यालय पटसा का जर्जर भवन।
  • आवश्यक देखरेख के अभाव में बनी रहती है अनहोनी की आशंका, बच्चों की पढ़ाई-लिखाई का संकट

प्रखंड क्षेत्र की अलग-अलग पंचायतों में संचालित सभी 6 पुराने उच्च विद्यालयों का भवन अब जर्जर होने के कगार पर है। भवन के जर्जर होने का कारण आवश्यक देखरेख का अभाव है। देखरेख के अभाव में भवनों के दीवारों में दरारें निकल गई हैं। साथ ही भवन का छज्जा भी जगह-जगह से ध्वस्त होता जा रहा है। यहां तक कि भवन के छत का प्लास्टर भी अब टूट-टूटकर गिरने लगा है। इससे अनहोनी की आशंका बनी रहती है। भवन की जर्जर स्थिति को देखकर अभिभावक अपने बच्चों को विद्यालय भेजने से परहेज करते हैं। लेकिन कोई दूसरा विकल्प नहीं होने के कारण जर्जर भवनों में ही पठन-पाठन की विवशता बनी हुई है।
नहीं की जा रही सकारात्मक पहल | बताया जाता है कि पटसा, नयानगर, आतापुर, मालदह, मंगलगढ़, हसनपुर बाजार में पुराने उच्च विद्यालय संचालित हैं। इन सभी विद्यालयों के भवनों की स्थिति जर्जर होती जा रही है। इसमें पटसा व मालदह स्थित उच्च विद्यालय का भवन काफी जर्जर है। भवन के जर्जर होने के कारण उच्च विद्यालय पटसा का संचालन विद्यालय परिसर में ही बने कल्याण छात्रावास के भवन में किया जाता है। भवनों के जर्जर होने की स्थिति से विभागीय पदाधिकारी अवगत हैं। प्रखंड स्तरीय शिक्षा विभाग के पदाधिकारी के माध्यम से वरीय पदाधिकारियों को इसकी रिपोर्ट भेजी जा चुकी है। लेकिन फिलहाल कोई पहल दिखाई नहीं दे रहा है।

खबरें और भी हैं...