कार्यक्रम:शैक्षणिक जगत में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ निर्णायक लड़ाई की आवश्यकता, छात्रों का भविष्य अंधकार में डूबा

समस्तीपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कन्वेंशन को संबोधित करते हुए डॉ. प्रभात कुमार। - Dainik Bhaskar
कन्वेंशन को संबोधित करते हुए डॉ. प्रभात कुमार।
  • नागरिक कन्वेंशन में शिक्षा के मुद्दे पर 15 दिसंबर को मिथिलांचल बंद को सफल बनाने का निर्णय

शहर स्थित भगत सिंह स्मारक स्थल पर सोमवार को आईसा, एसएफआई और एआईएसएफ द्वारा संयुक्त रूप से “ कुलपति, कुलसचिव हटाओ- मिथिला यूनिवर्सिटी बचाओ ‘नामक कन्वेंशन को संबोधित करते हुए शिक्षाविद, साहित्यकार, समस्तीपुर कॉलेज के पूर्व अंग्रेजी विभागाध्यक्ष डॉ प्रभात कुमार ने कहा कि शिक्षा जगत में व्याप्त भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए निर्णायक लड़ाई की आवश्यकता है। शैक्षणिक क्षेत्र में व्याप्त भ्रष्टाचार के फलस्वरूप छात्र-छात्राओं का भविष्य अंधकार में डूब गया है और इस स्थिति का शिकार शिक्षक समुदाय भी है।

उन्होंने कहा कि शैक्षणिक संस्थाओं को अराजक स्थिति में लाने के लिए जिम्मेदार पदाधिकारियों को अविलंब हटाए जाने की आवश्यकता है। ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि अन्य विश्वविद्यालयों की तरह यहां भी अराजकता का माहौल है और उन्हें लगता है कि कुलपति, कुलसचिव सहित अन्य पदाधिकारी भी अपने कर्तव्य का निर्वहन नहीं कर रहे। विश्वविद्यालय में भ्रष्टाचार का बोलबाला है। कॉलेजों में भी बहुत बेहतर स्थिति नहीं है। शिक्षा के निजीकरण की पूरी रूपरेखा नई शिक्षा नीति के नाम पर तैयार कर ली गई है और परंपरागत विश्वविद्यालयों की पूरे तौर पर उपेक्षा की जा रही है। यही कारण है कि गंभीर से गंभीर आरोप लगने पर भी पदाधिकारी अपने पदों पर जमे रहते हैं । उन्होंने कहा कि अगर किसान फांसीवादी निरंकुश शासक को घुटने टेकने के लिए मजबूर कर सकते हैं तो छात्र और युवा अपने संघर्ष से शैक्षणिक जगत में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ भी अपनी जीत हासिल कर सकते हैं। नागरिक कन्वेंशन की अध्यक्षता लोकेश राज, अवनीश कुमार और उदय कुमार ने संयुक्त रूप से की जबकि संचालन सुनील कुमार ने किया। दिनभर चले कन्वेंशन को बड़ी संख्या में छात्र नौजवानों ने संबोधित किया जिसमें अन्य लोगों के अलावा मनीषा कुमारी, रोशन कुमार , उदय कुमार, राहुल राय, अविनाश कुमार ,अधिवक्ता आनंद राज ,गंगा प्रसाद पासवान, राजू झा ,संजीव कुमार ,अभिषेक कुमार, अनिल कुमार, मनीष कुमार, रविरंजन कुमार, चंदन कुमार, मुकेश यादव, द्रखशा जवी माले के सुरेंद्र प्रसाद सिंह, एसएफआई के पूर्व जिला मंत्री सुबोध कुमार सम्मिलित है। सबों ने आंदोलन तेज करने की जरूरत को रेखांकित किया। इस अवसर पर 15 दिसंबर को मिथिलांचल बंद के कार्यक्रम के आलोक में भ्रष्टाचार के खिलाफ समस्तीपुर बंद को उस दिन पूर्ण सफल बनाने का राजनीतिक प्रस्ताव भी प्रस्तुत किया गया जिसे उपस्थित छात्रों ने पारित किया। कार्यक्रम के प्रारंभ में डॉ प्रभात कुमार सहित अन्य सभी ने भगत सिंह की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की।

खबरें और भी हैं...