पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

खतरा बरकरार:उच्चतम 48.83 मीटर से 26 सेंटीमीटर नीचे रह गया बूढ़ी गंडक का जलस्तर

समस्तीपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • वर्तमान में खतरे के निशान 45.73 मीटर से 2.84 मीटर ऊपर बह रहा पानी, पानी के स्थिर होने की संभावना के बीच शहर पर बना है खतरा

बूढ़ी गंडक नदी का जलस्तर शहर में लगातार 12 दिनों से खतरे के निशान से ऊपर बह रहा है। धीरे-धीरे इसके पानी का दबाव नदी के बांध पर भी पड़ने लगा है। जिससे शहर पर बाढ़ का खतरा बरकरार है। बताया जाता है कि पानी के बढ़ने की दर घट गई है। अब इसके स्थिर होने की संभावना है। बावजूद नदी का जलस्तर खतरे के निशान 45.73 से 2.84 मीटर उपर बढ़कर 48.57 मीटर हो गया है। जो नदी के उच्चतम जलस्तर 48.83 से महज 26 सेंटीमीटर नीचे है। बताया जाता है कि नदी का जलस्तर अपने उच्चतम जलस्तर को पार करेगा तो शहर में बाढ़ का पानी प्रवेश कर जाएगा।

खासकर मगरदही घाट व धरमपुर रेलवे लाइन के निकट पानी बाइपास के करीब पहुंच गया है। नदी के आधा मीटर तक और बढ़ने की स्थिति में पानी बाइपास को क्रॉस सकता है। वहीं रेलवे पुल के गाटर में पानी सटने के बाद से लगातार उपर की ओर चढ़ रहा है। अब नए रेल पुल का पाया भी डूबने के कगार पर है। बूढ़ी गंडक की पेटी में बसे लोगों के घरों में पानी घुस गया है। हर जगह के चापाकल डूब चुके हैं। पेयजल का संकट हो गया है।
बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में स्थिरता आ रही है। वर्तमान में नदी का जलस्तर अपने उच्चतम जलस्तर 48.83 से महज 26 सेंटीमीटर ही नीचे रह गया है।
-जय प्रकाश, ईई, फ्लड कंट्रोल

लगमा, नवटोलिया, राजघाट व चोरघटिया में स्थिति नाजुक

करेह नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी से पूर्वी तटबंध के क्षतिग्रस्त होने की संभावना बढ़ती जा रही है। जर्जर तटबंध पर पानी के दबाव से बांध में रिसाव होना स्थानीय प्रशासन के साथ वहां बसे ग्रामीणों के लिए चुनौती बना हुआ है। माहे, जहांगीरपुर, कुंडल टू पंचायत के पास दर्जनों जगह उत्पन्न हो रहे रिसाव ने क्षेत्र के लोगों की चिंता बढ़ा दी है। लोग बोरा डालकर एक जगह मरम्मति कर ठीक करते है की दूसरी जगह रिसाव शुरू हो जाता है।

सिरसिया में पशु चारा के अभाव में भूखे रह रहे मवेशी

हसनपुर | बाढ़ ने आमलोगों के साथ मवेशियों को भी प्रभावित किया है। बाढ़ के पानी में खेतों में लगी हरी घास के रूप में मवेशियों को खिलाए जाने वाली फसलें व भुसकार में रखे भूसा के डूबने से मवेशियों के सामने भोजन की समस्या हो गई है।

बाढ़ पीड़ितों को नहीं पहुंच पा रही है सरकारी मदद

बिथान | अब तक बाढ़ से चालीस हजार से ज्यादा लोग प्रभावित हैं। सरकार बाढ़ पीड़ितों को मदद पहुंचाने का दावा कर रही है, लेकिन हकीकत इससे परे है। कुछ इलाकों में चूरा-शक्कर, सत्तू, नमक-रोटी तो कहीं रोटी पर तेल लाकर पीड़ित अपना पेट भर रहे हैं।

पानी पार करने को बाइक के साइलेंसर में लगाते हैं जुगाड़

कल्याणपुर | समस्तीपुर-दरभंगा मुख्य पथ पर चार जगहों पर तीन फीट से ज्यादा पानी बह रहा है। युवक बाइक के साइलेंसर में 3-4 फीट की पाइप लगाकर पानी से गुजरते हैं। हालांकि प्रशासन ने चेक पोस्ट लगाकर बड़े वाहनों का परिचालन बंद करा दिया है।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- धार्मिक संस्थाओं में सेवा संबंधी कार्यों में आपका महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आने से राहत महसूस होगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में आज व्यस्तता बनी...

और पढ़ें