वारदात:मुसरीघरारी थाना क्षेत्र में पूर्व मुखिया की हत्या के बाद भी चौकस नहीं हुई पुलिस, 36 घंटे के अंदर बैंक में घुसकर लूट

समस्तीपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बैंक में लगे सीसीटीवी को पुटेज खंगालती पुलिस। - Dainik Bhaskar
बैंक में लगे सीसीटीवी को पुटेज खंगालती पुलिस।
  • एक बाइक पर सवार होकर आए चार बदमाशों ने बैंक आॅफ इंडिया से 16.76 लाख रुपए लूट लिए

मुसरीघरारी थाना क्षेत्र में पूर्व मुखिया की हत्या के बाद पुलिस चौकस नहीं थी। हत्या की घटना के 36 घंटे के अंदर ही एक बाइक पर सवार होकर आए चार बदमाशों ने बैंक आॅफ इंडिया से 16.76 लाख रुपए लूट की घटना को अंजाम दिया। इस घटना के बाद मुसरीघरारी पुलिस की पेट्रोलिंग व्यवस्था की पोल खुल गई है। एक बाइक पर सवार होकर चार-चार बदमाश आते हैं और लूट की घटना को अंजाम देकर चले जाते हैं, लेकिन पुलिस को इसी भनक तक नहीं लगी। आखिर पेट्रोलिंग पुलिस कहां थी। जबकि पुलिस पदाधिकारी का दावा है कि लूट की घटना से ठीक पहले थाने की पेट्रोलिंग गाड़ी बैंक तक आयी थी।

सब ठीक-ठाक रहने के बाद लौट गई थी। पुलिस के जाते ही वहां बदमाश पहुंचे थे। आईजी आजिताभ कुमार ने पुलिस के इस व्यवहार पर नाराजगी व्यक्त की है। माना जा रहा है कि इस मामले में कुछ पुलिस पदाधिकारी पर कार्रवाई हो सकती है। उधर, एसपी मानजीत सिंह ढिल्लो ने कहा कि पुलिस घटना के सभी विन्दुओं पर जांच कर रही है। वैसे बैंक में सुरक्षा मानकों का पालन नहीं किया गया है। सुरक्षा गार्ड की स्वीकृति के बावजूद सुरक्षा गार्ड नहीं रखा गया है। बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए सदर डीएसपी के नेतृत्व में एसआईटी बना दी गई है। जल्द मामले का खुलासा होगा।

बैंक में सुरक्षा मानकों का नहीं किया गया पालन; खुलासे के लिए सदर डीएसपी के नेतृत्व में एसआईटी बनी

बैंक को सुरक्षा गार्ड की है स्वीकृति फिर भी नहीं रखा है सुरक्षा गार्ड
समस्तीपुर- मुसरीघरारी मुख्य सड़क किनारे स्थित इस बैंक की सुरक्षा को लेकर सुरक्षा गार्ड की स्वीकृति है। बावजूद बैंक प्रबंधन द्वारा सुरक्षा गार्ड को नहीं रखा गया है। वहीं सीसीटीबी कैमरा भी सही स्थानों पर नहीं है। बैंक परिसर में व मुख्य गेट पर कैमरा नहीं है। जिससे आने जाने वालों पर निगरानी रखी जा सके। बैँक के अंदर भी कैमरा सही स्थानों पर नहीं है।

पुलिस के पहुंचने पर लोगों को चला पता

स्थानीय लोगों को पुलिस के आने पर जानकारी मिली। जबकि बैंक का सायरन सही थी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने सायरन को चेक किया तो वह बज रही थी।
16 जनवरी 2018 को बैंक में हुई थी चोरी की घटना : करीब ढाई वर्ष पूर्व 16 जनवरी 2018 की रात चाेरो ने बैंक का मुख्य गेट का ताला तोड़कर कर चोर बैँक के अंदर प्रवेश कर गए थे। यह महज संयोग था कि स्ट्रांग रूम का ताला नहीं खुल पाया था। नहीं तो उस समय चोरी की बढ़ी घटना होती।

घटना के बाद भी नहीं बजाया सायरन
घटना के दौरान बैंक में 10 के करीब कर्मी थी। बदमाशों की संख्या चार थी। लेकिन किसी भी बैंक कर्मियों ने सायरन नहीं बजाई । जिससे बैंक के नीचे मार्केटिंग कांप्लेक्स में लोगों को भनक तक नहीं लगी। ​​​​​​​


खबरें और भी हैं...