पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

बाढ़ का कहर:बूढ़ी गंडक के जलस्तर में वृद्धि जारी, तटबंध को रेनकट से खतरा, बांध पर रहन वालों की सुधि नहीं ले रहा कोई

समस्तीपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नदी की पेटी में बसे 40 से अधिक घरों में पानी प्रवेश कर जाने से लोग तटबंध पर शरण ले रखे हैं, यहां भी दहशत में हैं

प्रखंड क्षेत्र में बूढ़ी गंडक नदी के जलस्तर में लगातार हो रहे वृद्धि से लोग परेशान और दहशत में हैं। नदी की पेट में बसे 40 से अधिक घरों में पानी प्रवेश कर जाने से लोग तटबंध पर शरण ले रखे हैं। प्रभावित परिवार के लोगों को खाना बनाने व पेयजल की समस्या है। वहीं कुछ पशु पालकों के लिए पशु चारा एक समस्या बनकर खड़ी है। तीन दिनों से प्रभावित परिवारों की कोई सुधि लेनेवाला नहीं है। वहीं दूसरी ओर तटबंध में जगह-जगह बने बड़े-बड़े रेनकट से जर्जर हुए बांध के टूटने का डर लोगों में समाया हुआ है। हालांकि विभागीय स्तर से इसकी मरम्मती कराई जा रही है। तब तक बारिश से कारण तटबंध के नए स्थानों में रेनकट बन जाता है। इधर नदी के जलस्तर में वृद्धि व पानी के तेजधारा से कटाव जारी है। जहां विभागीय पदाधिकारी की देखरेख में संवेदकों द्वारा सुरक्षात्मक कार्य जोरों पर है।
शहर के सीढ़ीघाट ढाला-सूर्य मंदिर तटबंध पर रेनकट

शहर के सीढ़ीघाट ढ़ाला-सूर्य मंदिर की ओर जानेवाली तटबंध के बीच में बड़ा रेनकट बना है। बताया गया कि समय रहते मरम्मती नहीं हुई तो शहरी क्षेत्र पर खतरा हो सकता है। शहर के गोलाघाट, राजेन्द्र आश्रम-सिंघियाघाट पुल तक निगरानी बरती जा रही है।
तटबंध पर बने रेनकट की मरम्मत कराई गई थी। इधर हो रहे बारिश से तटबंध के कई स्थानों पर नए रेनकट बने हैं। जिनकी प्राथमिकता के आधार पर मरम्मती कराई जा रही है। तटबंध की सुरक्षा को लेकर जगह- जगह बाढ़ के सुरक्षात्मक कार्य जारी हैं।
अख्तर जमील, ईई, फ्ल्ड कंट्रोल, रोसड़ा प्रमंडल

सिंघिया के बाढ़ पीड़ितों ने प्रशासन से शीघ्र समस्या दूर करने की मांग की

शहर के सीढ़ी घाट से सूर्य मंदिर के बीच तटबंध में बना रेनकट।
शहर के सीढ़ी घाट से सूर्य मंदिर के बीच तटबंध में बना रेनकट।

प्रखंड में बाढ़ पीड़ितों की समस्या को लेकर अब जनप्रतिनिधि व विभिन्न राजनीतिक दल के नेता ने पंचायत समिति सदस्य शशिभूषण सिंह, गोपाल झा, सुनीता देवी, कांग्रेस नेता लड्डू सिंह, पार्थेश्वर सिंह, माले नेता रामचन्द्र प्रधान, बिट्टू सिंह, रिंकू सिंह, किसान संघ के मंत्री अरुण कुमार सिंह, डॉ समोली झा, लखन चौधरी, नजरे आलम सिद्दीकी ने प्रभावित परिवारों के बीच खाना, पानी, पशुचारा, दवा के साथ मेडिकल टीम प्रभवित गांवों में बहाल करवाने की मांग की। जनप्रतिनिधि व नेताओं ने बताया की कमला, जीवछ व करेह नदी के कहर के बीच प्रखंड में हजारो की संख्या में बाढ़ पीड़ित गांव, मुख्य सड़क, तटबंध पर शरण लिए हुए है। 15 दिनों से बाढ़ की त्रासदी झेल रहे रहे पीड़ित लोगों के समक्ष अब भोजन, पानी, पशुचारा आदि समस्या उत्पन्न होने लगी है।

बच्चे के साथ लोग बीमार हो रहे हैं। नाव के कारण गांव से निकलना मुश्किल बना हुआ है। क्षेत्र में बाढ़ की कहर बढ़ती ही जा रही। इसके कारण बाढ़ पीड़ित परिवारों की स्थिति दयनीय होती जा रही है। इसको लेकर सभी ने स्थानीय प्रशासन से अविलंब पीड़ितों खाना पानी के साथ दलित बस्ती में मेडिकल टीम भेजने की मांग करते हुए। विशेष रूप से प्रभावित जगहों पर नाव की व्यवस्था बहाल करवाने की मांग की।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें