स्वास्थ्य:जिले में बलगम जांच केंद्र 28, इनमें एक्टिव छह एक महीने में मिले टीबी के कुल 494 रोगी

समस्तीपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सदर अस्पताल स्थित बलगम जांच केंद्र। - Dainik Bhaskar
सदर अस्पताल स्थित बलगम जांच केंद्र।
  • नवंबर माह में 12 हजार 727 लोगों की जांच की गई बलगम, काेराेना के कारण बंद हाे गए 22 केंद्र

जिले में लगातार टीबी रोगियों की संख्या बढ़ रही है। नवंबर माह के दौरान 12727 लोगों की बलगम जांच की गई जिसमें 494 लोगों में टीबी रोग पाया गया। सभी टीबी राेगियों का डाट्स कार्यक्रम के तहत उपचार शुरू कर दिया गया है। कुल रोगियों में 168 सरकारी बलगम जांच केंद्र व 326 लोगों में निजी जांच केंद्रों में जांच के दौरान टीबी पाया गया।
 यह स्थिति तब है जब जिले में कुल 28 बलगम जांच केंद्रों में से छह स्थानों पर ही बलगम जांच हो रहा है। माना जा रहा है कि अगर सभी केंद्रों पर बलगम जांच किया जाता तो इसकी संख्या बढ़ सकती थी। बताया गया है कि कोरोना के कारण सभी बलगम जांच केंद्र कार्य नहीं कर रहा है। सिविल सर्जन डॉ सत्येंद्र कुमार गुप्ता ने बताया कि अभी ओपीडी में पहुंचने वाले लोगों का ही बलगम जांच संभव हो पाता है। ओपीडी में पहुंचे लोगों में से 173 लोगों को शक के आधार पर बलगम जांच केंद्र भेजा गया। जिसमें से 23 पॉजिटिव पाए गए।
वर्ष 2025 तक जिला को टीबी से करना है उन्मूलन | सिविल सर्जन ने बताया कि सरकार ने वर्ष 2025 तक जिला को टीबी से मुक्त करने का लक्ष्य रखा है। जिसको ध्यान में रख कर रोगी खोज आदि कार्यक्रम चलाया जा रहा है। हालांकि कोरोना के कारण परेशानी आयी है। लेकिन जिले में भर में खुल रहे हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के कारण इस रोग पर रोक लगेगा।

छह स्थानों पर ही हो रही है बलगम जांच
स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि कोरोना के कारण जिले के सदर अस्पताल के अलावा पटाेरी, रोसड़ा, पूसा, उजियारपुर व शिवाजीनगर स्थित बलगम जांच केंद्र कार्य कर रहा है। इसके अलावा अन्य 22 केंद्र कोरोना के कारण बंद है। टीवी विभाग के कर्मियों को कोरोना कार्य में लगाया गया है। जिस कारण केंद्र करीब दो सालों से बंद है।

खबरें और भी हैं...