आशंका:बरसात में सब्जियों की फसल में रोगों के लगने की बढ़ जाती है आशंका

समस्तीपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मोजेक रोग से ग्रसित सब्जी के पौधे। - Dainik Bhaskar
मोजेक रोग से ग्रसित सब्जी के पौधे।
  • सब्जी उत्पादक किसान वैज्ञानिक तकनीकों से कर सकते हैं रोकथाम

बरसात के मौसम में सेम, लोबिया, परवल, नेनुआ, बैंगन, कद्दू, भिंडी, टमाटर, करेला आदि जैसे विभिन्न प्रकार की फलदार सब्जियों पर कई तरह के रोगों का संक्रमण काफी अधिक बढ़ जाता है। किसान वैज्ञानिक तकनीकों को अपनाकर सब्जियों में विभिन्न तरह के रोगों का प्रबंधन करते हुए सब्जियों की फसल से बेहतर उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं। ये बातें डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा के पादप रोग विभाग के सहायक प्राध्यापक एवं विवि के वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक डॉ. दिनेश राय ने कही।

उन्होंने कहा कि सब्जियों के फसल पर बरसात के दिनों में आद्रपतन, श्यामवर्ण, किट्ट, चारकोल विगलन, जीवाणुज अंगमारी, मोजेक आदि जैसे दर्जनों तरह की बीमारियों के पनपने की संभावना बनी रहती है। कृषि वैज्ञानिक ने बताया कि आद्रपतन, श्यामवर्ण आदि जैसे खतरनाक बीमारियों से फसल को बचाने के लिए किसानों को हमेशा स्वस्थ एवं प्रमाणित बीजों का प्रयोग करने के अलावा उपचारित बीजों का ही प्रयोग करना चाहिए। किसान अपनी सब्जियों के खेतों में हमेशा साफ-सफाई बनाए रखने के अलावे आसपास की गंदगियों को भी जलाकर अक्सर नष्ट कर दिया करें।

खबरें और भी हैं...