दारोगा में हुआ सिलेक्शन, तो पत्नी से मांगने लगा दहेज:15 लाख नहीं देने पर प्रताड़ित कर घर से निकाला, सिविल कोर्ट में दर्ज हुआ मुकदमा

समस्तीपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी दारोगा बिट्टू कुमार। - Dainik Bhaskar
आरोपी दारोगा बिट्टू कुमार।

समस्तीपुर में एक दारोगा के खिलाफ उसकी पत्नी ने सिविल कोर्ट में केस दर्ज कराया है। यह केस दलसिंहसराय के अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी तृतीय के न्यायालय में दाखिल किया गया है।पीड़िता ने आरोप लगाया है कि उसकी शादी 2019 में हुई थी। शादी के एक साल बाद 2020 में उसके पति का दारोगा के पद पर सलेक्शन हुआ। जिसके बाद से उसका पति उससे दहेज को लेकर प्रताड़ित करने लगा। ऐसे में आखिर में तंग आकर महिला ने केस दर्ज कराया है।

दरअसल, विद्यापति नगर थाना अंतर्गत एक गांव की पीड़ित महिला ने कोर्ट में दायर अपने मुकदमा में अपने पति पर गंभीर आरोप लगाया है। महिला ने मुकदमा के दौरान बताया कि 2019 में मेरी शादी उजियारपुर थाना क्षेत्र के लखुआ पतैली गांव निवासी स्व. राम स्वार्थ चौरसिया के पुत्र बिट्टू कुमार कमल के साथ हिन्दू रीति रिवाज़ के अनुसार हुई थी। शादी के समय मेरा पति रेलवे ग्रुप डी में पदस्थापीत थे। मेरे पति ने 2018 में ही दारोगा की परीक्षा पास कर ली थी और ज्वाइनिंग को लेकर इंतजार कर रहे थे।

दारोगा बिट्टू कुमार और उसकी पत्नी।
दारोगा बिट्टू कुमार और उसकी पत्नी।

पीड़ित महिला ने बताया कि शादी के एक साल बाद 2020 में मेरे पति बिट्टू कुमार कमल का सलेक्शन बिहार पुलिस के दारोगा में हुआ। जिसके बाद वह दहेज में 15 लाख रुपए की मांग करने लगा। इनकार करने पर मुझे शारीरिक, आर्थिक व मानसिक रूप से प्रताड़ित कर अपने साथ रखने से इन्कार करने लगा। बाद में उसने जबरन गर्भनिरोधक दवा खिलाने तथा दूसरी शादी करने की धमकी भी दी। ऐसे में इस प्रताड़ना से तंग आकर मैंने सिविल कोर्ट में प्राथमिकी दर्ज की है।

बताते चलें कि पीड़िता ने पूर्व में भी अपने पति, सास सुनीता देवी व देवर बबलू कुमार पर दहेज नहीं देने पर शारीरिक, मानसिक, आर्थिक रूप से प्रताड़ित का आरोप लगाते हुए विद्यापति नगर थाना कांड संख्या 10/2019 व महिला थाना कांड संख्या 90/21 दर्ज कराने की बात अंकित कराई है।