पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

परेशानी:दो महीने पूर्व युवाओं ने 250 बांस-बल्ले से 24 घंटे में बनाया था बागमती नदी पर पुल, एक बार फिर हाे गया पूरा ध्वस्त

समस्तीपुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • हरिपुरघाट में चचरी पुल टूटने से समस्या, जून 2002 में तत्कालीन सांसद रामचंद्र पासवान ने किया था उद्घाटन

प्रखंड की विशनपुरआभी पंचायत अंतर्गत हरिपुरघाट गांव स्थित बागमती नदी में बना आरसीसी पुल के ध्वस्त होने के बाद लोगों के द्वारा बनाया गया बांस-बल्ले का पुल ग्रामीणों को अब बार-बार धोखा देने लगा है। पानी की तेज धार के बीच चचरी पुल टूटने के बाद लोगों में हड़कंप मच गया। जानकारी मिलते ही लोगों की भीड़ जुट गई। किसी तरह लोगों ने मरम्मत कर फिर किसी तरह चलने लायक बनाया। ग्रामीणों के लिए अब यही बांस-बल्ले की पुल आशा बनी हुई है। दो महीने में करीब 3 बार पुल टूट चुकी है।

लोगों में अब इस बात को लेकर दहशत बन गया है कि अगर यह पुल भी साथ नहीं दिया तो गांव के लोगों पर आवागमन को लेकर फिर से परेशानी उत्पन्न हो सकती हूं। जब एक साल पूर्व आरसीसी पुल धराशाई हुई थी गांव के युवाओं ने दो माह पूर्व मिलकर महज 24 घंटे में ही नदी में 250 बांस-बल्ले से चचरी पुल बनाकर अपने लिए रास्ता का निर्माण किया था। युवाओं की मेहनत, दृढ़ इच्छा शक्ति व ग्रामीणों का सहयोग ने अब करीब 5 गांव के लोगों की राह आसान हुई थी। लेकिन अब चचरी पुल भी बार-बार टूटने लगी है। बांस-बल्ले कमजोर होने से यह परेशानी उभरने लगी है। स्थानीय लोगों को पुल की चिंता सता ही रही है। वहीं दूसरी तरफ अब पुल के दोनों तरफ बना एप्रोच पथ भी धराशाई के कगार पर पहुंच गया है। कब कोई बड़ी हादसा हो जाएगा कहना मुश्किल है। इस बार यह पुल विधानसभा चुनाव में एक जोरदार मुद्दा बनकर उभरा है। 28 जुलाई 2019 को धराशाई हो गया था पुल | विगत 28 जुलाई 2019 की संध्या हरिपुरघाट में आरसीसी पुल अचानक धराशाई होकर नदी में समा गया था। जब पुल टूट रहा था, उस समय दर्जनों लोग पुल पर खड़े होकर पानी की धार देख रहे थे। जब पुल से कर्र-कर्र की आवाज आने लगी तो लोग माजरा समझ गए। और पुल से सभी भाग खड़े हुए। लोग जैसे ही पुल छोड़कर बांध पर आए, इसी बीच पुल का एक हिस्सा जोर की आवाज के साथ नदी में समा गया था।

वर्ष 2002 में हुआ था पुल का उद्घाटन, वर्ष 2015 में एप्रोच पथ का हुआ था उद्घाटन
बताया गया कि स्थानीय क्षेत्र विकास योजनांतर्गत हरिपुरघाट में बागमती नदी में आरसीसी पुल का निर्माण किया गया था। करीब 25 लाख की लागत से पुल बनकर तैयार हुई थी। वर्ष जून 2002 में तत्कालीन सांसद रामचंद्र पासवान के द्वारा पुल का उद्घाटन किया गया था। महज 17 साल में ही वर्ष 2019 में पुल तरह धराशाई हो गया। वहीं मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास योजना के तहत हरिपुरघाट महादेव मंदिर से पुल तक व दूसरी तरफ मुरादपुर पीसीसी सड़क से हरिपुरघाट तक पीसीसी सड़क का उद्घाटन वर्ष 2015 में विधायक अशोक कुमार मुन्ना द्वारा किया गया था। एक तरफ की पीसीसी सड़क की लागत 7 लाख 34 हजार 915 रुपए था। जबकि दूसरी तरफ की लागत शिलापट्ट से मिटा हुआ दिखा। ग्रामीण युवा प्रकाश कुमार, ओम कुमार सहनी, मिथुन सहनी, रमेश दास, ब्रजेश कुमार, मुरारी कुमार, अजय कुमार, ओम प्रकाश राय आदि ने बताया कि एप्रोच भी धराशाई के कगार पर है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें