पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मौत:2019 में चमकी बुखार से 19 की हुई थी मौत, इस वर्ष भी दो की हुई मौत

सीतामढ़ी8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डीएम ने चमकी बुखार से बचाव के लिए शुरू हो गई तैयारी

डुमरा स्थित समाहरणालय परिसर में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की बैठक आयोजित की गयी। इसकी अध्यक्षता डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा ने की। इस दौरान जेई/एईएस बीमारी की समीक्षा की गयी। डीएम ने पिछले वर्ष चमकी बुखार को लेकर अच्छे कार्य के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम को बधाई दी। साथ ही जिला को चमकी बुखार मुक्त बनाने के लिए काम करने को कहा। कहा गया कि इसके लिए अब शून्य मरीज के लक्ष्य पर काम करना होगा। साथ ही अभी से ही चमकी बुखार की सभी तैयारियां शुरु करने का निर्देश दिया। वहीं लोगों में चमकी बुखार से बचाव के व्यापक जागरूकता फैलाने के लिए अभियान चलाने का निर्देश दिया गया। जिला भीबीडी नियंत्रण पदाधिकारी डॉ. रविन्द्र कुमार यादव ने बताया कि पिछले वर्ष 2019 में जिले में चमकी बुखार से 41 लोग ग्रसित हुए थे।

इसमें से 19 लोगों की मौत हाे गयी थी। जबकि इस वर्ष चमकी बुखार के 9 केस सामने आए थे। इसमें रुन्नीसैदपुर प्रखंड के दो लोगों की मौत हो गयी थी। साथ ही दो जेई के केस सामने आए थे। उन्होंने बताया कि चमकी बुखार को लेकर लोगों में जागरूकता आयी है। इसी का परिणाम है कि यह वर्ष चमकी बुखार के काफी कम केस सामने आए है। डॉ. श्री यादव ने बताया कि चमकी बुखार से बचाव के लिए लोगों को जागरूक करना मुख्य उद्देश्य है। कहा कि ग्रामीण स्तर पर चमकी बुखार के बारे में कई लोग जानते भी नहीं है। ऐसे में विभाग ग्रामीण स्तर पर जागरूकता फैलाने पर फोकस करेगी। ताकि लोग इससे ग्रसित न हो।

खबरें और भी हैं...