भटक रही पीड़िता:महिला को मंत्री की ओर से दिए गए चार लाख रुपए का चेक हो गया बाउंस

सीतामढ़ी6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
महिला को चेक देते मंत्री (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
महिला को चेक देते मंत्री (फाइल फोटो)
  • जिले के प्रभारी मंत्री ने गत 24 नवंबर को आपदा राहत कोष का चार लाख का चेक डुमरा के तलखापुर में परिजनों को दिया था जिनके बच्चों की डूबने से मौत हो गई थी

जिले में मृतक के परिवार को मंत्री द्वारा दिया गया मुआवजा का चेक बाउंस हो गया है। क्षेत्र में यह चर्चा का विषय बन गया है। आपदा राहत कोष से जारी चेक को बीते 24 नवंबर को बिहार सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण सह जिला प्रभारी मंत्री जमा खान द्वारा मृतक की मां पिंकी देवी को चार लाख मुआवजा राशि का चेक दिया गया था। लेकिन, यह चेक बैंक में जाने के बाद पर्याप्त राशि ना होने की वजह से बाउंस कर गया। जिसके बाद पीड़िता सीओ कार्यालय का चक्कर लगा रही है।
क्या है पूरा मामला | पुनौरा थाना क्षेत्र के तलखापुर स्थित लखनदेई नदी के किनारे 5 नवंबर को छठ घाट बना रहे दो चचेरे भाई शांति नगर वार्ड 9 निवासी भोला चौधरी के 18 वर्षीय पुत्र राजकुमार और संतोष चौधरी के 17 वर्षीय पुत्र आकाश कुमार की मौत नदी में डूबने से हो गई थी। जिसके बाद 24 नवंबर को बिहार सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण सह जिला प्रभारी मंत्री जमा खान सीतामढ़ी आये थे। इसी दौरान आपदा राहत कोष से निर्गत चेक चार चार लाख की मुआवजा राशी का चेक मंत्री के हाथों से संतोष चौधरी की पत्नी पिंकी को सुपुर्द करवाया गया था। लेकिन यह चेक बैंक में जाने के बाद पर्याप्त राशि ना होने की वजह से बाउंस कर गया।

एआईएमआईएम ने मामले में आंदोलन की दी चेतावनी
इधर, इस मामले को लेकर एआईएमआईएम पार्टी ने भी दलित परिवार से आने वाली पिंकी के पक्ष में आंदोलन करने की बात कही है। पार्टी के युवा जिलाध्यक्ष मो. हामिद रज़ा ख़ान ने कहा कि जिला प्रशासन बिना देरी किए हुए पिंकी को राशि नहीं उपलब्ध कराती है और लिखित में अंचल अधिकारी माफी नहीं मांगते हैं तो एआईएमआईएम आंदोलन करने पर मजबूर होगी। उन्होंने कहा कि दलित महिला के साथ एक तो अन्याय हुआ उसके बाद प्रशासनिक पदाधिकारी उसे सांत्वना या ढांढ़स बंधने की जगह धमकाते और गलत व्यवहार करते है, जो कि बेहद शर्मनाक है।

महिला ने सीओ पर लगाया दुर्व्यवहार का आरोप
संतोष चौधरी की पत्नी पिंकी ने बताया मंत्री द्वारा मिला चेक बैंक में बाउंस होने के बाद वो डुमरा सीओ के पास गई। जहां सीओ ने उन्हें नये साल के प्रथम सप्ताह में पैसा एकाउंट में जाने की बात कही। लेकिन नये साल में भी मुआवजा राशि खाते में न आने पर पिंकी पुनः 11 जनवरी को सीओ कार्यालय पहुंची। जहां काम करवाने की बात कहने पर सीओ भड़क उठे। पिंकी ने बताया कि सीओ ने उसे भला बुरा कहा। साथ ही उसे अपने दफ्तर से चले जाने को कह दिया गया। अब पिंकी के सामने सबसे बड़ी समस्या यह है कि वो अपनी फरियाद लेकर जाये तो जाये कहां।

डीपीआरओ ने कहा: टेक्निकल प्रॉब्लम के कारण फंसा मामला
मामले की जांच की गई है। क्षेत्र के तीन में से दो लाभार्थियों को राशि चली गई है। टेक्निकल प्रॉब्लम के कारण एक लाभार्थी का भुगतान नहीं हो सका था। जिसे दूर कर लिया गया है। कल तक राशि का भुगतान लाभार्थी को कर दिया जाएगा।
- परिमल कुमार, डीपीआरओ, सीतामढ़ी।
^महिला के साथ किसी तरह का दुर्व्यवहार या अपमानजनक शब्द का प्रयोग नहीं किया गया है। आवंटन नहीं होने के कारण खाता से राशि का भुगतान नहीं हो सका है। जैसे ही खाता में राशि आ जाएगी, भुगतान कर दिया जाएगा। इसके लिए प्रयास किया जा रहा है।
- चंद्र प्रकाश, सीओ, डुमरा।

खबरें और भी हैं...