दिन भर रहेगा राखी का शुभ मुहूर्त:रक्षाबंधन के दिन बन रहा शुभ गजकेसरी योग

सीतामढ़ी5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डुमरा में राखी की खरीदारी के लिए जुटे लोग। - Dainik Bhaskar
डुमरा में राखी की खरीदारी के लिए जुटे लोग।
  • राखी बंधन का पुण्य समय दोपहर 1.44 से 4.3 बजे तक

रक्षा बंधन को लेकर सभी भाई व बहनों में उत्साह है। रविवार श्रावण पूर्णिमा को रक्षा बंधन मनाया जाना है। मिठाई की दुकानों के साथ ही राखी व कपड़ों और सोने चांदी की दुकानों में भी लोगों को जमकर खरीदारी करते देखा गया। इधर, कई भाई को बहन के घर तो कई बहनें भाई के यहां पहुंची है। इस बार के खास रक्षाबंधन पर्व को भाई-बहन एक यादगार बनाने की तैयारी कर चुके हैं। जहां भाई बहन के लिए गिफ्ट खरीद रहे है, तो बहन अच्छी मिठाई और राखी के साथ ही पूजा सामग्री खरीदी है।

यह योग करती है महत्वकांक्षा पूरी
मंगलाधाम मन्दिर के आचार्य कृष्ण कुमार झा ने बताया कि इस बार का रक्षा बंधन पर्व विशेष है। रक्षा बंधन का पर्व अधिकतर श्रवण नक्षत्र में मनाया जाता है, परन्तु साल 2021 में रक्षा बंधन का पर्व धनिष्ठा नक्षत्र के साथ मनाया जाएगा। इस बार शोभन योग भी राखी के इस पर्व को और भी अधिक खास बना रहा है। बृहस्पति और चंद्रमा की इस अद्भुत युति से रक्षा बंधन के दिन गजकेसरी योग बन रहा है। माना जाता है कि, गजकेसरी योग से व्यक्ति की सभी महत्वाकांक्षाएं पूरी होती हैं। वहीं रक्षाबंधन पर प्रात: 06 बजकर 15 मिनट से प्रात: 10 बजकर 34 मिनट तक शोभन योग रहेगा तथा धनिष्ठा नक्षत्र शाम को करीब 07 बजकर 39 मिनट तक रहेगा। रविवार की दोपहर 01 बजकर 42 मिनट से शाम 04 बजकर 18 मिनट तक राखी बांधना सबसे शुभ है।

खबरें और भी हैं...