पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कार्यक्रम:गर्भवतियों का आंगनबाड़ी केन्द्रों पर हुआ गोद भराई का रस्म

सीतामढ़ी25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सुप्पी में गोदभराई में शामिल सेविका व अन्य। - Dainik Bhaskar
सुप्पी में गोदभराई में शामिल सेविका व अन्य।
  • गर्भावस्था के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां, खान-पान का प्रभाव एवं प्रसव पूर्व तैयारी के बारे में दी गई जानकारी

जिले के सभी आंगनवाड़ी केन्द्र पर गर्भवती महिलाओं के लिए बुधवार को गोदभराई कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कड़ी में सुप्पी प्रखंड के आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 48 पर आंगनबाड़ी सेविका विभा कुमारी ने अपने पोषक क्षेत्र की दो गर्भवतियों की गोदभराई की। इसमें प्रसव पूर्व तैयारी, संस्थागत प्रसव एवं गर्भावस्था के दौरान खानपान के ऊपर विशेष ध्यान देने के बारे में जानकारी दी गई।

वहीं प्रखंड के ही आंगनबाड़ी केंद्र संख्या 37 पर आंगनबाड़ी सेविका मीना कुमारी के द्वारा भी गोद भराई उत्सव का आयोजन किया गया था। इसमें 1 गर्भवती महिला की गोद भराई की गई। पिरामल के डीसी रवि कुमार ने बताया कि गर्भवती माता, किशोरियां व बच्चों में एनीमिया की रोकथाम जरूरी है। गर्भवती महिला को 180 दिन तक आयरन की एक लाल गोली जरूर खानी चाहिए। 10 वर्ष से 19 साल की किशोरियों को भी प्रति सप्ताह आयरन की एक नीली गोली का सेवन करना चाहिए। छह माह से पांच साल तक के बच्चों को सप्ताह में दो बार एक-एक मिलीलीटर आयरन सिरप देनी चाहिए।

गोदभराई के समय होने वाली माताओं को शिशुओं में डायरिया के बारे में बताया गया। कहा गया कि छह माह तक शिशुओं को केवल स्तनपान (ऊपर से कुछ भी नहीं) ही डायरिया से बचाव करता है। डायरिया होने पर लगातार ओआरएस का घोल एवं 14 दिन तक जिंक देना चाहिए। वहीं साफ -सफाई एवं हाथ धोकर ही खाना खाने की आदत गर्भवतियों को अपनाने की सलाह दी गयी।

खबरें और भी हैं...