सीतामढ़ी में चाचा को पराजित कर मुखिया बना भतीजा:अपने पिता की हार का बदला लेते हुए 1152 वोट से हासिल की जीत, जिले का सबसे चर्चित मुखिया बना सुनील

सीतामढ़ी10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सुनील का फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
सुनील का फाइल फोटो।

सीतामढ़ी में रविवार को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तीसरे चरण और जिले के दूसरे चरण का मतगणना जारी है। इस दौरान जिले के सबसे युवा मुखिया के तौर पर बोखड़ा प्रखंड के बाजीतपुर भाउर पंचायत से चुनाव जीतकर आने वाले सुनील कुमार पासवान ने जीत दर्ज कराया है। खास बात यह है कि सुनील 23 वर्ष के उम्र में ही अपने चाचा और निवर्तमान मुखिया दशरथ पासवान को पराजित कर के जीत हासिल की है।

इस दौरान सुनील ने बताया की वर्ष 2016 में उसके पिता लालबाबु पासवान और उनके चाचा दशरथ पासवान चुनाव लडे थे। जिसमें सुनील के पिता लालबाबु को पराजित करके सुनील के चाचा ने जीत दर्ज कराई थी। लेकिन पिता के हार के बाद सुनील ने ठान लिया की मुझे मुखिया बनना है।

वहीं इस बार चुनाव में खुद उतरकर भारी मतों से विजयी प्राप्त किया है। सुनील अपने चाचा को 1152 वोट से पराजित किया है। जीत के बाद मतगणना हॉल से निकलते ही सुनील को लोग बधाई देने लगे। जिले के सबसे कम उम्र में मुखिया बने सुनील जिले के लिए चर्चित बने हुए है। सुनील की चारो तरफ वाह वाही हो रही है।

खबरें और भी हैं...