बच्चों को कोवैक्सिन की जगह लगाई कोवीशील्ड:सीतामढ़ी में उम्र देखकर भी नहीं पूछा सवाल; बवाल मचा तो कर्मचारी सेंटर से हुए फरार

सीतामढ़ी12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सीतामढ़ी जिला मुख्यालय के डायट भवन में लगाए गए कोरोना वैक्सीनेशन सेंटर पर जमकर हंगामा हुआ। इस हंगामे की पीछ की वजह थी स्वास्थ्य कर्मियों की लापरवाही। दरअसल, गुरुवार को डुमरा प्रखंड के कुमार चौक निवासी नैतिक कुमार (16) व शंकर चौक निवासी आकाश रस्तोगी (16) को कोवैक्सिन की जगह कोवीशील्ड का टीका लगा दिया गया। बाद में जब दोनों बाहर निकले तो पता चला कि डायट भवन उनका वैक्सीनेशन सेंटर था ही नहीं। उनको पास के M.P हाई स्कूल में जाना था। डायट भवन में सिर्फ 18 वर्ष से अधिक के लोगों को टीका लग रहा है। ऐसे में घबराएं छात्रों ने अपने परिजनों को इस बात की जानकारी दी, जिसके बाद परिजनों ने सेंटर पर जमकर हंगामा किया।

बच्चों को कोवैक्सिन की जगह लगाई कोवीशील्ड

घटना को लेकर परिजन ने बताया कि नैतिक और आकाश दोनों स्कूल दोस्त है। दोनों गुरुवार को वैक्सीन लेने के लिए डायट भवन गए थे। जहां बच्चों ने रजिस्टर मेंटेन करने वाले से कहा कि हमारी उम्र 18 वर्ष से कम है और हम कोरोना वैक्सीन लेने आए हैं। कर्मी ने रजिस्टर पर दोनों का नाम लिखकर उन्हें टीका लेने के लिए अंदर भेज दिया। जहां दोनों बच्चों को कोवीशील्ड की वैक्सीन दे दी गई। बाद में स्वास्थ्य कर्मी द्वारा दोनों बच्चों को बाहर जाकर रजिस्ट्रेशन कराने की बात कही गई। दोनों जब बाहर आकर रजिस्ट्रेशन काउंटर पर पहुंचे तो वहां बैठे कर्मी ने बताया कि आप दोनों का वैक्सीन यहां नहीं दिया जाएगा। यहां सिर्फ 18 से अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन दिया जा रहा। आप दोनों पास के M.P हाई स्कूल में जाकर वैक्सीन लीजिए। ये सुन दोनों बच्चों के होश उड़ गए। दोनों ने तुरंत हमें इस बात की जानकारी दी।

सूचना मिलने पर दोनों बच्चों से बात करते SDO।
सूचना मिलने पर दोनों बच्चों से बात करते SDO।

इधर, परिजन ने अपने बच्चों के साथ डुमरा थाना जाकर इस बात की शिकायत की। जहां डुमरा थाना पुलिस ने सभी को डांटकर वहां से भगा दिया। पुलिस ने कहा कि इसमें हम क्या कर सकता हैं। जिसके बाद दोनों छात्रों ने अपने परिजनों के साथ को सेंटर पर जमकर विरोध प्रदर्शन किया। बच्चों का कहना है कि टीका लेने के बाद अगर हमारे साथ कोई अनहोनी होती है तो इसका जिम्मेदार कौन होगा ? स्वास्थ्य विभाग ने हमारे साथ खिलवाड़ किया है।

छात्रों ने अपने परिजन के साथ मिलकर सीतामढ़ी मुजफ्फरपुर मुख्य सड़क को किया जाम।
छात्रों ने अपने परिजन के साथ मिलकर सीतामढ़ी मुजफ्फरपुर मुख्य सड़क को किया जाम।

दोनों छात्रों ने अपने परिजन के साथ मिलकर डायट भवन के सामने सीतामढ़ी मुजफ्फरपुर मुख्य सड़क को जाम कर दिया। जहां जाम के कारण दर्जनों गाड़ी फंसी रही। वहीं, टीका लगाने वाले कर्मी डर से केंद्र छोड़कर भाग गए।

बाद में सूचना मिलने पर डुमरा थानाध्यक्ष एसडीओ राकेश कुमार दल-बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर किशोर व उनके परिजनों को शांत कराया। जहां वरीय अधिकारी के निर्देश पर दोनों बच्चों को चिकित्सक के देख-रेख में PHC डुमरा में रखा गया।

वहीं, इस संबंध में सिविल सर्जन डॉक्टर सुरेश चंद्र लाल ने बताया कि दोनों किशोर ठीक है। उन्हें एक घंटे तक चिकित्सक के देख-रेख में रखने के बाद घर भेज दिया गया है। बिना रजिस्ट्रेशन किए दोनों किशोर को टीका लगाने की बात सामने आ रही है। जांच के बाद कर्मी के खिलाफ कार्रवाई किया जाएगी।