माता की भक्ति में लीन हुए भक्त:मंत्रोच्चारण व गीतों से माहौल भक्तिमय

सीतामढ़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बताशा-चावल के साथ महिलाओं ने माता को चढ़ाया चुनरी व शृंगार की सामग्री

नगर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में बुधवार को शारदीय नवरात्रा में माता के अष्टम स्वरूप महागौरी की श्रद्धा से पूजा-अर्चना की गई। पूजा के दौरान मंदिरों व पंडालों से वैदिक मंत्रोचारण से इलाका भक्तिमय बना रहा। पूजा स्थलों के समीप सुबह से भी चहल पहल होने लगी। दिन चढ़ते ही महिलाओं व बच्चों की भीड़ दर्शन को उमड़ने लगी। पूजा स्थलों के समीप ही ठेला, खोंचा व सड़क किनारें फल, पूजा सामग्री, खिलौने, श्रृंगार की दुकानें नजर आने लगी। परंपरा के अनुसार अष्टमी तिथि को लेकर पूजा स्थलों, ब्रह्म स्थान व महारानी स्थान के साथ ही ग्राम के अन्य देवी देवताओं के दरबार में खोईछा भरने सुबह से भी महिलाओं की भीड़ लगी रही। वहीं आज के दिन विभिन्न स्थानों पर श्रद्धालुओं ने अपनी मन्नते उतारी।

खोंइछा भरने के लिए उमड़ी महिलाओं की भीड़

अष्टमी को लेकर सुबह से ही विभिन्न स्थानों पर परंपरा के अनुसार महिलाएं खोईछा भरने पहुंची। पूजा स्थलों के साथ ही नगर के महारानी स्थान व अन्य देवी देवताओं के मंदिरों में महिलाआें ने खोईछा भरी। इस दौरान पंरपरा के अनुसार मंदिरों में नया कपड़ा बिछाकर नियमानुसार बताशा व चावल के साथ श्रृंगार की सामग्री चढ़ाकर सभी गलती माफ करने गुहार लगाई। इसके साथ ही देवी देवताओं से परिवार के सुख शांति व समृद्धि की कामना की।

पूजा स्थलों के समीप सजी दुकानें

मंदिरों व पूजा स्थालों के समीप मेला का लगा रहा। ठेला, खोंचा के साथ ही सड़क किनारें प्रसाद, श्रृंगार, खिलैने, चाय नाश्ता की दुकानें सजी थी। श्रृंगार की दुकानों पर महिलाओं की भीड़ तो खिलौने की दुकानों पर बच्चे नजर आ रहे थे। दर्शन व पूजा के बाद श्रद्धालु दुकानों से सामग्री खरीदते नजर आए। खोंचे की दुकानों से फास्ट फूड के साथ ही बच्चें विभिन्न के सामग्री का लुफ्त लेते नजर आए।

खबरें और भी हैं...