जांच:जिप अध्यक्ष के नाम के डोंगल का अवैध उपयाेग मामले की डीएसपी करेंगे जांच

सीतामढ़ी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एसपी को आवेदन देती जिप अध्यक्ष। - Dainik Bhaskar
एसपी को आवेदन देती जिप अध्यक्ष।

जिला परिषद में कर्मचारी द्वारा बगैर जानकारी दिए ही जिला परिषद अध्यक्ष ने नाम का डोंगल का उपयोग किए जाने का मामला अब तूल पकड़ने लगा है। इस मामले में एसपी हर किशाेर राय ने डीएसपी सदर काे जांच कर रिपाेर्ट देने काे कहा है। उन्हाेंने इस मामले की गंभीरता से जांच करने का आदेश डीएसपी सदर काे देते हुए रिपाेर्ट उपलब्ध कराने काे कहा है। इसके पूर्व जिप अध्यक्ष ने एसपी काे आवेदन साैंपते हुए मामले की जांच कराते हुए आवश्यक कार्रवाई की मांग की है। जिला परिषद अध्यक्ष उमा देवी ने एसपी काे दिए आवेदन में कहा है कि जिप अध्यक्ष के नाम का डाेंगल से बिना जानकारी दिए ही जिप क्षेत्र संख्या 29 बाजपट्टी की याेजनाओ से संबंधित 64 मजदूर आदि का निबंधन का एप्रूवल भज्ञी संबंधित ब्लाॅक एकाउंट फैसिलेटेटर एवं राेकड़पाल की मिलीभगत से कराया जा चुका है।

यह कार्य सही है या नहीं इसकी जांच कराने की आवश्यकता है। ऐसा प्रतीत हाेता है कि वरीय पदाधिकारियाें की जानकारी में ये कार्य हुआ है। इस संबंध में उप विकास आयुक्त सह मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी काे पत्र भेजा गया है लेकिन इस मामले में की गई कार्रवाई की जानकारी नहीं दी गई है। उन्हाेंने कहा है कि जिला परिषद अध्यक्ष के नाम का डोंगल का उपयोग बगैर जिप अध्यक्ष के जानकारी के ही किया गया है। जो गैरकानूनी है। इतना ही नहीं जिप अध्यक्ष के डोंगल में जिला परिषद के रोकड़पाल अभिषेक कुमार द्वारा अपना मोबाइल नंबर व ई-मेल जोड़ा गया है।

^इस मामले में डीडीसी सह मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी काे पत्र भेज कर संबंधित कर्मियाें के विरुद्ध निलंबन की कार्रवाई किए जाने की अनुशंसा भी की गई थी। लेकिन एक माह बाद भी इस संबंध में काेई कार्रवाई नहीं की गई। अब इस मामले काे एसपी काे आवेदन दिया गया है। जिसमें जांच की कार्रवाई काे लेकर डीएसपी सदर काे कहा गया है।
-उमा देवी, जिप अध्यक्ष, सीतामढ़ी।

जिप अध्यक्ष ने कहा-पूर्व में भी डीडीसी को जानकारी दी गई, लेकिन कार्रवाई नहीं हुई
जिप अध्यक्ष उमा देवी ने कहा कि पूर्व में भी इसकी जानकारी डीडीसी को दिया गया था। लेकिन अब तक कार्रवाई नहीं हुई है। कहा कि गत 30 जून को परिषद अध्यक्ष का डोंगल बनाना था। जिसके लिए फोटो एवं डिजिटल हस्ताक्षर लिया गया। लेकिन डोंगल उपलब्ध नहीं कराया गया। जब भुगतान आदि को लेकर डोंगल बनाने के संबंध में जानकारी ली गई तो बताया गया कि डोंगल बना है। जिसका उपयोग जिला पंचायत कार्यालय के ऑपरेटर मुकेश कुमार द्वारा किया जा रहा है। जब ऑपरेटर से पूछताछ की गई तो उन्होंने जानकारी दी कि अध्यक्ष के नाम से डोंगल बनवाया गया है लेकिन, ई-मेल एवं फोन नंबर आदि अभिषेक कुमार उर्फ विशाल का दिया गया है। जिला परिषद अध्यक्ष के अनुसार, इस मामले को लेकर पिछले 30 जुलाई से लगातार पत्राचार किया जा रहा है।

दो-दो बार डीडीसी सह मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी को पत्र भेजा गया है। संबंधित कर्मियों के विरुद्ध कार्रवाई की भी अनुशंसा भी गई। इसके बावजूद इस दिशा में कोई कार्रवाई नहीं की गई है। यहां तक कि डोंगल चेंज करने के दिशा में भी कोई सार्थक पहल नहीं की जा सकी है। ऐसे में एसपी के अलावा वरीय अधिकारियों लेकर पंचायती राज विभाग को पत्र भेजा गया है। एसपी की ओर से जांच कराने का आश्वासन दिया गया है। इसके बाद अब सीधी प्राथमिकी दर्ज कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...