सड़क पर सज रहा बाजार:तीन साल बाद भी सूबे का पहला वेंडिंग जोन जिला बनने का सीतामढ़ी का सपना रहा अधूरा

सीतामढ़ी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहर में वेंडिंग जाेन की पड़ी दुकानें। - Dainik Bhaskar
शहर में वेंडिंग जाेन की पड़ी दुकानें।
  • फिजिकल फील्ड और मेहसौल ओपी के सामने की खाली जमीन का चयन हुआ था

फुटपाथ दुकानों के लिए बाजार बनने वाला सूबे का पहला जिला बनने का सपना फुटपाथ पर ही दम तोड़ दिया। शहर की सूरत बदलने और सड़कों से लोड कम करने के लिए पंडित दीनदयाल अंत्योदय योजना सह राष्ट्रीय शहरी जीविका मिशन योजना का लाभ 3 वर्ष बाद भी धरातल पर देखने को नहीं मिल रहा है। योजना के तहत शहरी आजीविका मिशन के तहत ठेला, खोमचा व फुटपाथ दुकानदारों को रोजी रोटी के लिए स्थाई जगह मिलनी थी। लेकिन, पूर्व नगर परिषद के समय से शुरु हुई इस योजना का कार्य तीन वर्ष बाद नगर निगम में परिवर्तित होने के बावजूद पूर्ण नहीं हो सका है।

शहर में चार वेंडिंग जोन का निर्माण के लिए जगह के साथ पूर्व नगर परिषद ने जमीन के वर्गफीट तक की घोषणा कर दी थी। बावजूद मामला ठंडे बस्ते में चला गया। जबकि इसके लिए राज्य नगर विकास आवास विभाग की मंजूरी भी मिल गई थी। वही चारों जगहों पर वेंडिंग जोन बनाने में 1.21 करोड़ की राशि खर्च होने का स्टीमेट भी फिक्स हो गया था। जिसके बाद सीतामढ़ी शहर सूबे का पहला शहर बनने वाला था, जहां फुटपाथ दुकानों का अलग बाजार होना था। शहर के चार जगहों का किया गया था चयन उस वक्त वेंडिंग जोन के लिए शहर स्थित दीपक स्टोर्स गली व गुदरी बाजार रोड के निकट मॉडल वेंडिंग जोन बनाने की बात कही गई थी। वहीं गुदरी रोड दीपक स्टोर्स गली 288-14 वर्गफीट, गुदरी रोड लक्ष्मी हाईस्कूल के पीछे 125-15, सिनेमा रोड शंकर सिनेमा के पास 76-66 व जानकी स्थान नाका नंबर एक 145-10591 वर्गफीट में निर्माण कार्य कराया जाना था। उस वक्त पूर्व नगर परिषद के तत्कालीन कार्यपालक पदाधिकारी विजय कुमार उपाध्याय ने बताया था कि सरकार के इस पहल से 591 दुकानदारों को लाभ मिलना था। उन्हीने कहा था कि फिलहाल शहर की दो सड़कों पर चार वेंडिंग जोन बनाए जाएंगे। जिसके लिए विभाग द्वारा मंजूरी भी दे दी गई है और स्थल का भी चयन कर लिया गया है। बावजूद ऐसा न हो सका।

नगर निगम बनने के बाद कार्य में आई तेजी
तीन वर्ष बाद नगर निगम बनने के बाद वेंडिंग जोन निर्माण की कवायद तेज हो गई है। शहर को अतिक्रमणकारियों से मुक्त कराने के लिए दो जगह डुमरा रोड स्थित ओरियंटल स्कूल के सामने फीजिकल फील्ड और मेहसौल ओपी के सामने की खाली जमीन का चयन कर उसमें निर्माण कार्य भी प्रारंभ कर दिया गया है। यहां तक कि जागरूकताऔर प्रचार को लेकर नगर निगम द्वारा शहर में जगह जगह बोर्ड भी लगाई गई है। लेकिन, अत्यधिक अंदर होने के कारण फूटपाथ विक्रेता अपनी मांगों के समर्थन में आंदोलन कर रहे है।

फूटपाथ विक्रेता संघ से जुड़े व्यवसायो का कहना है कि अंदर में जाने से उनका व्यवसाय प्रभावित होगा। जिसके लिए नगर आयुक्त मुमुछु चौधरी द्वारा लगातार फूटपाथ विक्रेताओं के सभी संघो से बात कर उन्हें इस बारे में जानकारी दी जा रही है। सड़क पर लगने वाले ठेला, खोमचा दुकानदारों को इससे होने वाले लाभ और पेयजल, लाइट पार्किंग और टॉयलेट सुविधाओं की जानकारी भी नगर निगम दे रहा है। बावजूद शहर के दोनों जगहों पर बना वेंडिंग जोन खाली पड़ा है। अतिक्रमण के कारण इन जगहों पर लगता है जाम| शहर के फुटपाथ पर दुकानदारों का कब्जा रहता है। जगह-जगह दुकानदारों द्वारा दुकान के सामान को पूरा फुटपाथ पर सजा लेने से पैदल चलने में परेशानी होती है। तो वही अतिक्रमण के कारण वाहनों के गुजरने में भी परेशानी होती है। जिस कारण अक्सर ट्रैफिक जाम की स्थिति बनी रहती है। वही शहर के मेहसौल चौक के निकट लखनदेई पुल पर दोनों ओर फल व सब्जियों तथा अन्य फुटपाथी दुकानदारों का कब्जा रहता है।

खबरें और भी हैं...