पर्यावरण का संदेश:घरों व छतों पर गमले में जरूर लगाएं इंडोर पौधे

सीतामढ़ी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पाैधाराेपण करते प्राचार्य व एनएसएस के कार्यकर्ता। - Dainik Bhaskar
पाैधाराेपण करते प्राचार्य व एनएसएस के कार्यकर्ता।
  • कॉलेज की छात्र-छात्राओं व प्राध्यापकों ने लिया पर्यावरण सुरक्षा का संकल्प

गांधी जयंती के उपलक्ष्य में बुधवार को नगर स्थित एसएसके कॉलेज परिसर में राष्ट्रीय सेवा योजना के तत्वावधान में समारोह आयोजित किया गया। प्रो. ललन कुमार राय की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में पौधरोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया गया। इस अवसर पर कॉलेज के विद्यार्थियों व प्राध्यापकों ने गमले में ऑक्सीजन देने वाले इंडोर प्लांट लगाया। इस अवसर पर प्राचार्य प्रो. डॉ. अनिल कुमार सिन्हा ने पेड़-पौधों की महत्ता पर प्रकाश डाला। कहा कि प्रदूषण के बुरे प्रभाव से पूरा विश्व प्रभावित हो रहा है। प्रदूषण के कारण रोज नई-नई बीमारियां पनप रही हैं। ऐसे में हम सभी को मिलकर पर्यावरण का संरक्षण करना हाेगा। कहा कि शहरी इलाके में बड़ी-बड़ी इमारत बन रही है। ऐसे में कम से कम अपने-अपने घरों एवं छतों पर गमले में ऑक्सीजन देने वाले पांच-पांच इंडोर पौधे जरूर लगाएं।

प्रो. मृत्युंजय को खेल व सांस्कृतिक कार्यक्रम की कमान
इस समारोह के अवसर पर प्राचार्य ने प्रो. मृत्युंजय कुमार को कॉलेज के क्रीड़ा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम के प्रभारी की जिम्मेवारी सौंपी। इनके कंधों पर खेल से संबंधित गतिविधियों को तेज करने की जिम्मेवारी सौंपी गई है। इससे कॉलेज में खेल गतिविधियों को नई ऊर्जा मिलेगी।

तुलसी, स्नेक प्लांट, स्पाइडर प्लांट जैसे पौधे लोगों के लिए बहुत उपयाेगी

प्राचार्य ने कहा कि जगह के अभाव के कारण हम घराें पर गमले में उपयोगी पौधे लगा सकते हैं। इसमें तुलसी, स्नेक प्लांट, स्पाइडर प्लांट, एरेका पाम, क्रोटन प्लांट, पीस लिली, ड्राइसिना, रबर प्लांट मुख्य हैं। इन पौधों का चयन कर घर को सुसज्जित करें। इससे हमें ऑक्सीजन भी मिलेगी और प्राकृतिक सौंदर्यता भी। यह पौधे प्रकृति में ऑक्सीजन की मात्रा बनाए रखती है और प्रकृति से जहरीली गैसों को ऑब्जर्व कर लेती है। कहा कि पर्यावरण की रक्षा से ही जीवन की रक्षा की जा सकती है। मौके पर प्रो. निखत फातिमा, प्रो. दीपक प्रसाद, प्रो. मृत्युंजय महासेठ, प्रो. देवेंद्र प्रताप तिवारी, प्रो. चंद्र भूषण, प्रो० घनश्याम कुमार, प्रो० संजय कुमार, प्रो आलोक कुमार, प्रो. पंकज कुमार, प्रो. सुरेश सिंह, प्रो. राजीव रंजन, प्रो. चंदन कुमार सिंह, प्रो. सनऊवर अली, नागेंद्र प्रसाद, सुरेश लाल कर्ण,विकास कुमार, अरविंद कुमार, स्वाति, प्रियंका, डोली कुमारी, रूचि भारती शत्रुघन कुमार आदि उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...