पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बारिश का कहर:मोहल्लों में जलजमाव रहने से बढ़ा मच्छरों का प्रकोप, ब्लीचिंग पाउडर व फॉगिंग मशीन से केमिकल छिड़काव की मांग तेज

सीतामढ़ी8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सिंह कॉलनी में सड़क पर जलजमाव। लोगों काे आने-जाने में हो रही परेशानी। - Dainik Bhaskar
सिंह कॉलनी में सड़क पर जलजमाव। लोगों काे आने-जाने में हो रही परेशानी।
  • शहर के दर्जनभर मोहल्लों में दो माह से गंदा पानी जमा रहने से लोग हो रहे परेशान, बीमारी का सता रहा भय

शहर में लगातार हो रही बारिश से जगह-जगह जलजमाव की स्थिति बनी हुई है। पानी निकासी का रास्ता नहीं होने से कई स्थान पर तो एक माह से अधिक से बारिश का पानी जमा है। इससे पानी सड़ के काला रंग का हो चुका है। वहीं, गंदे बदबूदार पानी के सड़ांध बदबू से लोगों का जीना मुहाल है। पानी में मच्छर पनपने लगे है। ऐसे में लोगों को डेंगू व मलेरिया फैलने का खतरा मंडराने लगा है। जलजमाव रहने से वैश्विक महामारी कोरोना के बीच डेंगू व मलेरिया जैसी बीमारी आम जनमानस को प्रभावित कर सकती है।

शहरी क्षेत्र में फॉगिंग मशीन से केमिकल का छिड़काव, ब्लीचिंग पाउडर या डीटीटी का छिड़काव भी नहीं किया जा रहा। ऐसे में लोगों को कोरोना काल में अन्य संक्रमित बिमारी से दो-चार होना पड़ सकता है। पिछले दिनों जमकर हुई बारिश के कारण वार्ड 2, 7, 14, 18, 19, 20, 21, 26 व 27 स्थित मोहल्लों में बारिश का पानी जमा है। मच्छरों का प्रकोप बढ़ने से स्थानीय लोगो में मच्छररोधी गैसों का उत्सर्जन करने की मांग तेज हो गई है। वहीं, नगर निगम प्रशासन द्वारा ब्लीचिंग पाउडर की कमी का हवाला देने से लोग बारिश के पूर्व की गई प्रशासनिक व्यवस्था पर सवाल उठा रहे है। गौशाला चौक मोहल्ले में डीएम के भ्रमण के बाद भी नहीं सुधरी स्थिति| वार्ड 7 स्थित गौशाला चौक मोहल्ले में पिछले दो माह से बारिश का पानी जमा है। नीचला इलाका होने के कारण अन्य मोहल्लों का पानी भी यहीं आकर जमा हो जाता है। मोहल्लेवासी चंदेश्वर प्रसाद सिंह ने बताया कि नवनियुक्त डीएम ने लाव-लश्कर के साथ 15 दिन पहले मोहल्ले का भ्रमण करने पहुंचे थे। लेकिन, अब तक प्रशासन द्वारा जलजमाव का समाधान की दिशा में कोई प्रयास शुरू नहीं किया है।

आदर्श नगर मोहल्ले में पानी निकासी का प्रयास तक नहीं हुआ, दो माह से है जमा
शहर के आदर्श नगर मोहल्ला स्थित विद्या भारती स्कूल से अमर सिंह के घर तक सड़क के नीचे रहने एवं नाला निर्माण नहीं कराने से पिछले दो माह से सड़क पर बारिश का पानी जमा है। मोहल्लेवासी अमरीश मुखिया ने बताया कि पिछले वर्ष वार्ड सदस्य ने पंपिंग सेट से पानी निकाला था। लेकिन, इस दफा पानी निकालने का प्रयास तक नहीं हुआ। वहीं, डीटीटी या ब्लिचींग पाडडर का छिड़काव भी नहीं हुआ है।

चाणक्यपुरी, लोहिया नगर व सिंह कॉलोनी के लोगों ने केमिकल छिड़काव की मांग की
वार्ड 20 के चाणक्यपुरी, लोहिया नगर एवं वार्ड 19 के सिंह कॉलोनी में जमे बारिश का पानी निकालने के लिए मोहल्लेवासी आपसी सहयोग से पंपिंग सेट लगाकर पानी निकालने में जुटे हुए है। लेकिन, बारिश होते ही दोबारा पानी जमा हो जाता है। पूरे मोहल्ले में जलकुंभी फैला हुआ है। वहीं, मच्छरों का प्रकोप भी बढ़ गया है। हालांकि, सिंह कॉलोनी की सड़कों पर ब्लिचींग पाउडर का छिड़काव किया गया है। इससे उक्त अन्य मोहल्लों के लोगों में भी फॉगिंग मशीन से केमिकल छिड़काव की मांग तेज हो गई है।

ब्लीचिंग पाडडर की कमी के कारण वृहद पैमाने पर नहीं हो सका छिड़काव
नगर निगम के नवनियुक्ति प्रबंधक प्रभुनाथ पासवान ने बताया कि कुछ मोहल्लों में चूना और ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव कराया गया था। इसके बाद नगर निगम के स्टॉक में ब्लिचींग पाउडर खत्म होने से छिड़काव कार्य वृहद पैमाने पर नहीं हो पाया। विभाग को ब्लिचींग पाउडर और केमिकल आपूर्ति कराने को कहा गया है। मच्छरों का प्रकोप कम करने के लिए फॉगिंग मशीन से केमिकल का छिड़काव भी जल्द शुरू किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...