पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बयान बाजी पर रोक लगाई जाए:चीनी मिल को बेच किसानों का पैसा भुगतान करने के निर्णय का विरोध

सीतामढ़ी18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बिहार प्रदेश ईंख कास्तकार संघ के महासचिव नागेंद्र प्रसाद सिंह ने मुख्यमंत्री को ई-मेज भेजकर गन्ना उद्योग विभाग द्वारा रीगा और सासामुसा चीनी मिल को बेचकर बकाया ईंख मूल्य का भुगतान करने जैसे बेतुका निर्णय का विरोध किया। साथ ही सीएम से तत्काल हस्तक्षेप करने की मांग की है।

अखबारों में छपी खबर के मुताबिक विभागीय मंत्री प्रमोद कुमार की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में दिए गए निर्देश के अनुसार सासामुसा और रीगा चीनी मिल की संपत्ति का मूल्यांकन कर आवश्यक कानूनी कार्रवाई में किसानों का बकाया ईंख मूल्य का भुगतान करने का निर्णय लिया। जबकि यह निर्णय राज्य के इन दोनों चीनी मिल से जुड़े 50-60 हजार किसानों के हितों पर सीधा कुठाराघात है। उन्होंने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया है कि विभागीय मंत्री के अनाप-शनाप बयान बाजी पर रोक लगाई जाए।

साथ ही सासामुसा तथा रीगा चीनी मिल के हजारों किसानों और सैकड़ों मिल मजदूरों के हित में दोनों मिलों को जिंदा रखने के लिए समुचित कार्रवाई की जाए। अगर सभी प्रयास विफल हो जाते हैं तो राज्य सरकार स्वयं या फिर राज्य या केंद्र सरकार के किसी उपक्रम के हवाले चीनी मिलों को देकर लौरिया और सुगौली चीनी मिल के तर्ज पर इन दोनों मिलों को चलाने की बात कहीं।

खबरें और भी हैं...