पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पहल:मध्याह्न भोजन योजना के तहत बच्चों को दी जाने वाली अनाज वितरण पर रोक, अब बच्चों के खाते में भेजी जाएगी राशि

सीतामढ़ी10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • डीईओ ने कहा : लॉकडाउन को देखते हुए मुख्यालय के निर्देश पर अनाज वितरण के लिए की जाएगी कार्रवाई

मध्याह्न भोजन योजना के तहत सरकारी स्कूलों में अध्ययनरत बच्चों के अभिभावकों के बीच 80 दिनों का अनाज वितरण पर लॉकडाउन का ग्रहण लग गया है। इस मामले में डीईओ सचिन्द्र कुमार ने कहा है कि लॉकडाउन को देखते हुए विभाग के निर्देश पर वितरण संबंधी आगे की कार्रवाई की जाएगी। हालांकि मध्याह्न भोजन योजना के निदेशक कुमार रामानुज ने डीपीओ मध्याह्न भोजन को निर्देश जारी करते हुए कहा कि अनाज वितरण के बाद प्रधानाध्यापक मेधा सॉफ्ट के माध्यम से संबंधित लाभान्वित बच्चों का इंट्री करेंगे।

ताकि वैसे बच्चों के खाते में राशि भेजी जा सके। उन्हाेंने कहा है कि पूर्व में डीबीटी के माध्यम से प्रधानाध्याक (विद्यालय शिक्षा समिति) द्वारा खाते में राशि हस्तांतरित करने का आदेश दिया गया है। अब इसमें संशोधन किया गया है। इसके तहत अब पटना मुख्यालय से ही बच्चों के खाते में राशि भेजी जाएगी। 

अनाज वितरण को पूर्व में 17 जुलाई तक की मिली थी मोहलत 
मध्याह्न भोजन योजना के तहत पूर्व में जिला शिक्षा पदाधिकारी सचिंद्र कुमार ने सभी प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी एवं स्कूल के प्रधानाध्यापकों को सरकारी स्कूलों में अध्ययनरत बच्चों के अभिभावकों के बीच 80 दिनों का अनाज वितरण करने के लिए 7 दिनों की मोहलत दी थी।  लॉकडाउन व ग्रीष्मावकाश के दौरान पठन-पाठन बंद अवधि काल यानी 80 दिन का अनाज वितरण के लिए तिथि निर्धारित कर 17 जुलाई तक वितरण करने का निर्देश दिया गया था। इसके लिए डीईओ ने सभी प्रधानाध्यापकों, बीईओ व प्रखंड साधन सेवियों को निर्देश दिया था। लेकिन, जिला प्रशासन की ओर से 13 जुलाई से 20 जुलाई तक लॉकडाउन घोषित कर दिया गया। ऐसे में स्कूलों में अनाज वितरण का कार्य शुरू भी नहीं किया गया है। प्रधानाध्यापकों ने लॉकडाउन का हवाला देते हुए अनाज का वितरण कार्य शुरू नहीं किया है। 

पांचवीं तक के बच्चों को 8 व आठवीं तक की कक्षा को 12 किग्रा देना है अनाज
लॉकडाउन एवं ग्रीष्मावकाश अवधि के कुल 80 दिनों का अनाज बच्चों को दिया जाना है। इसके तहत मई महीने में 24 दिन का, जून महीने के 30 दिन का एवं जुलाई महीने के 26 दिन का, यानी कुल 80 दिनों का अनाज एवं राशि उपलब्ध कराई जानी है। विभागीय निर्देश के आलोक में पहली कक्षा से पांचवी कक्षा तक के बच्चों के लिए 100 ग्राम अनाज के हिसाब से प्रति बच्चे 8 किलोग्राम अनाज एवं 397 रुपए तथा छठी से आठवीं तक के बच्चों के लिए 150 ग्राम अनाज के हिसाब से 12 किलोग्राम अनाज व 596 रुपए प्रति बच्चे दिए जाएंगे।

प्रधानाध्यापक बच्चों के खाते में डीबीटी के माध्यम से राशि हस्तांतरित नहीं करेंग
कोरोना संक्रमण को देखते हुए मध्याह्न भोजन योजना के निदेशक ने डीपीओ मध्याह्न भोजना योजना को निर्देश जारी करते हुए कहा कि अब प्रधानाध्यापक बच्चों के खाते में डीबीटी के माध्यम से राशि हस्तांतरित नहीं करेंगे। उन्होंने पूर्व में दिए गए आदेश को निरस्त करते हुए कहा है कि अनाज वितरण के बाद प्रधानाध्यापक छात्र-छात्राओं की उपस्थिति मेधा सॉफ्ट में दर्ज कराएंगे। पूर्व में विद्यालय शिक्षा समिति के माध्यम से राशि दिए जाने का निदेश दिया गया था। अब वह राशि प्रधानाध्यापक द्वारा नहीं दिया जाएगा। यह राशि निदेशालय से ही एनआईसी द्वारा बच्चों अथवा अभिभावकों के खाता में डीबीटी के माध्यम से भेज दिया जाएगा। अनाज वितरण के बाद एचएम सॉफ्ट के माध्यम से बच्चों का इंट्री करेंगे। जिन बच्चों को खाद्यान्न दिया गया है उनके सामने “वाई’ अंकित करेंगे। नए नामांकित बच्चों को भी नामांकन तिथि से ही मध्याह्न भोजन देय होगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें