पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जानकारी:ड्रोन से फसलों व बगीचों में कीटनाशकों का छिड़काव लाभकारी होता है : डॉ. राम ईश्वर

सीतामढ़ी4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कृषि विज्ञान केन्द्र में ड्रोन से दवा छिड़काव का किया जा रहा प्रदर्शन। - Dainik Bhaskar
कृषि विज्ञान केन्द्र में ड्रोन से दवा छिड़काव का किया जा रहा प्रदर्शन।
  • कृषि विज्ञान केन्द्र में ड्रोन से दवा छिड़काव का कराया गया प्रदर्शन, किसानों को मिली जानकारी

कृषि विज्ञान केंद्र सीतामढ़ी, बल्हा में मंगलवार को ड्रोन के माध्यम से विभिन्न फसलों एवं बगीचे में कीटनाशकों एवं पोषक तत्वों के छिड़काव का प्रदर्शन कराया गया। यह कार्यक्रम गरुडा एयरोस्पेस प्राइवेट लिमिटेड की ओर से किया गया। इस मौके पर केंद्र के वरीय वैज्ञानिक एवं प्रधान डॉ. राम ईश्वर प्रसाद ने उपस्थित किसानों को बताया कि जिले में ड्रोन के माध्यम से कीटनाशक एवं पोषक तत्वों के छिड़काव का डिमांस्ट्रेशन पहली बार किया जा रहा है। यह किसानों के लिए काफी लाभकारी है। इसके माध्यम से मात्र 10 मिनट में एक एकड़ में छिड़काव किया जा सकता है। दिन भर में लगभग 30 से 40 एकड़ में छिड़काव किया जा सकता है। डॉ. प्रसाद ने बताया कि वैसे बगीचा, जिसमें पेड़ की ऊंचाई 20 से 30 मीटर है, उस बगीचे में इसके माध्यम से काफी आसानी से दवा आदि का छिड़काव किया जा सकता है। क्योंकि ड्रोन 40 मीटर की ऊंचाई तक एवं 200 से 300 मीटर तक काफी आसानी से काम करता है। जिससे 3 से 4 एकड़ बगीचे में मात्र 20 से 25 मिनट में दवा एवं अन्य घुलनशील पोषक तत्वों का छिड़काव किया जा सकता है।

वही किसानों को उद्यान वैज्ञानिक मनोहर पंजीकार, पशु चिकित्सा वैज्ञानिक डॉ. किंकर कुमार, सस्य वैज्ञानिक सच्चिदानंद प्रसाद, मौसम वैज्ञानिक रणधीर कुमार ने बताया कि ड्रोन के माध्यम से विभिन्न कीटनाशकों, फफूंद नाशकों एवं पोषक तत्वों का छिड़काव करने से एक विशेष लाभ यह है कि इसके माध्यम से दवा आदि की मात्रा एक चौथाई हो जाती है एवं समान रूप से फसलों पर कीटनाशकों का छिड़काव होता है। परिणामस्वरूप लागत में कमी आती है एवं परिणाम बेहतर आता है। इस मौके पर गरुडा एयरोस्पेस प्राइवेट लिमिटेड चेन्नई से आये को. पायलट वीजी. दानुष एवं एम पायलट अरुल मथावन ने उपस्थित किसानों को ड्रोन चलाने एवं रखरखाव के बारे में विस्तृत जानकारी दी। इस डेमोंस्ट्रेशन कार्यक्रम में स्वास्तिका कुमारी, मांडवी कुमारी, नीतू कुमारी, अर्चना कुमारी, शिशिर कुमार झा, शिवशंकर राय, राम किशोर राय, सुभाष रंजन आदि थे।

खबरें और भी हैं...