लापरवाह हैं जिम्मेदार:इस साल भी नहीं बन सकेगा लालबकैया नदी के फुलवरिया घाट का अधूरा पुल, 2013 में ही निर्माण कार्य शुरू हुआ था

सीतामढ़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फुलवरिया घाट पर निर्माणाधीन पुल। - Dainik Bhaskar
फुलवरिया घाट पर निर्माणाधीन पुल।
  • नदी पार करने में होती रहती हैं दुर्घटनाएं, अब तक कई लोग गंवा चुके हैं जान

सीतामढ़ी जिला को मोतिहारी से जोड़ने वाली मुख्य पथ पर लालबकैया नदी के फुलवरिया घाट इस बार भी पूर्ण नहीं हो सकेगी। वर्ष 2013 से इसका निर्माण कार्य शुरू किया गया था, लेकिन 8 वर्षों में भी इस पुल का निर्माण नहीं हो सका है। हालांकि हर बार चुनाव में इस क्षेत्र का यह अहम मुद्दा होता है। सभी प्रत्याशी इसके निर्माण कराने का महज आश्वासन देते हैं, लेकिन इसके बाद काेई भी इस पुल के निर्माण के प्रति गंभीर नहीं दिख रहे हैं। जबकि यह पुल सीतामढ़ी व मोतिहारी को जोड़नी वाली सबसे महत्वपूर्ण पुल है। बारिश व बाढ़ के दिनों में डायवर्सन बहने के बाद इस पर नाव चला करता है। अब इस स्थान पर दर्जनों दुर्घटनाएं भी हो चुकी है, जिसमें कई लोग अपना प्राण भी गवां चुके हैं। बावजूद इस पुल के निर्माण को लेकर प्रशासन से लेकर प्रतिनिधि तक उदासीन रवैया ही अपनाते रहे हैं। इस संबंध में फुलवरिया घाट पुल निर्माण संघर्ष समिति के अध्यक्ष ब्रजमोहन कुमार द्वारा आरटीआई में सवाल पूछे गए थे।

उन्हाेंने बताया कि उन्हें जवाब में निराशा हाथ लगी है। बताया गया है कि इस समय पुल निर्माण का कार्य बंद है। पुल निर्माण को लेकर एकरारनामा संख्या 27 एसबीडी को 24 जनवरी 13 को किया गया था। परन्तु, संवेदक द्वारा निर्धारिय समय सीमा के भीतर अपेक्षाकृत कार्य मे प्रगति नहीं होने के कारण एकरारनामा को निरस्त कर दिया गया है। इसके शेष कार्य को पूर्ण करने के लिए डीपीआर तैयार कर पथ प्रमंडल विभाग के मुख्य अभियंता पटना के कार्यालय में भेजा गया है। वर्तमान में निविदा की प्रक्रिया चल रही है। अध्यक्ष ने बताया कि जवाब से स्पष्ट है कि इस वितीय वर्ष में भी पुल निर्माण का कार्य पूरा नहीं हो पायेगा। उन्होंने बताया कि जबकि यह इस क्षेत्र के लिए वरदान है। इसी के माध्यम से लोग मोतिहारी से जुड़ते है तथा आवागमन के साथ ही व्यापार भी होता है।

खबरें और भी हैं...