पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

मछली पकड़ने के लालच में गंवाई जान:सकरा में ग्रामीण के अंतिम संस्कार के बाद पोखर में नहाने गए थे चाचा-भतीजा, डूबने से दोनों की मौत

सकरा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सकरा में दो बच्चे की डूब कर मौत होने के बाद राेते-बिलखते परिजन।
  • गोताखोरों ने साढ़े तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद दाेनाें के शव को पानी से बाहर निकाला
  • दो बच्चों की मौत से गांव में मातमी माहौल, परिजनों के दहाड़ने की आवाज चीरती रही सन्नाटा

थाना क्षेत्र के सतपुरा मैदान और रेलवे लाइन के बीच बने पानी भरे गड्ढे में रविवार की दाेपहर नहाने गए 6 किशाेराें में से चाचा-भतीजा की डूबने से मौत हो गई। घटना की जानकारी हाेने पर सैकड़ों महिला व पुरुष की भीड़ उमड़ पड़ी। मृतक दोनों छात्र चाचा- भतीजा की पहचान मझौलिया गांव वार्ड सं 13 के निवासी चतुरी दास की 15 वर्षीय पुत्र धर्म कुमार तथा अजय दास के 15 वर्षीय पुत्र कुंदन कुमार के रूप में हुई।

पंसस भोला राम व वार्ड सदस्य उमेश कुमार ने प्रखंड प्रशासन को सूचना दी। बाद में ढोली रैनी से चार गोताखोर मछुआराें को बुलाया गया। साढ़े तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद दाेनाें का शव पानी से बाहर निकाला गया। बताया गया कि गांव में मखन प्रसाद का निधन हाे गया था। दाह संस्कार के बाद सभी लोग बगल के पोखर में नहाने लगे, परंतु चाचा-भतीजा समेत छह किशाेर वहां के कुछ दूर स्थित पानी भरे गड्ढे में नहाने चले गए।

दोनों नौवीं क्लास के छात्र थे
कुंदन तीन भाईयाें में मंझला और धर्म कुमार 5 भाइयों में सबसे छोटा था। दोनों नौवीं क्लास के छात्र थे। मृतक कुंदन कुमार के पिता मोतीपुर में प्लाई का काम करते हैं। मां पार्वती देवी घर गृहस्थी संभालती है। वह बार-बार दहाड़ मारकर विलाप कर रही थी कि दिन में हम धूप होने पर घर चले आते थे, पर आज हम नहीं आ सके। यदि हम घर आए होते त हमर बाबू हमरा छोड़ के न जाता हो बाबू सब। 8वीं की टीसी निकाल के बाबू नौवां में नाम लिखाने ही वाला रहे हो बाबू।

वहीं धर्म कुमार की मां बार-बार मूर्छित होकर गिर रही थी। धर्म के पिता गांव में ही मजदूरी करते हैं। वह पांच भाइयों के सबसे प्यारा भाई था। माताओं के करुण क्रंदन से अन्य लोगों की आंखें भी डबडबा गई। जिला पार्षद रविंद्र यादव, कांग्रेस नेता हरिनंदन ठाकुर, स्थानीय अनिल कुमार आदि ने प्रखंड प्रशासन से तुरंत 4 लाख की राहत उपलब्ध कराने की मांग की।

प्रशासन के असहयोगपूर्ण रवैये पर लोगों में भारी नाराजगी
राहुल सहनी समेत चार गाेताखाेर पानी में उतरे। डूबे हुए स्थल काे मृतक के भाई कुणाल ने एक कंकड़ फेंक कर बताया। उसी जगह गाेताखाेर राहुल ने डुबकी लगाई। एक किशोर का शव लिए बाहर निकला। फिर दूसरी डुबकी में दूसरा शव भी निकाल लिया। इधर, प्रशासन के असहयोगपूर्ण रवैये पर लोगों में भारी नाराजगी देखी गई।

मछली देख दोनों लपके तो गहरे पानी में चले गए
मृत कुंदन का छोटा भाई कुणाल ने कहा कि मेरे भैया और चाचा (दूसरा मृतक) हमेशा एक साथ रहते थे। मेरे भैया नहाते हुए एक मछली को पकड़ने के लिए लपके, जिससे उनका पांव गहरे पानी में फिसल गया। उनको बचाने के लिए चाचा धर्म कुमार ने एक डंडा पकड़ने को दिया पर पकड़ा में नहीं आ सका और उनका भी पांव फिसल गया, जिससे वे भी डूब गए। बाकी बच्चे शोर मचाते हुए घर की ओर भागे और लोगों की जानकारी दी। जिसके बाद परिजनों के साथ ही ग्रामीण भी भागते-दौड़े मौके पर पहुंचे।

कुढ़नी और सरैया में डूबने से दाे की माैत

कुढ़नी की केरमाडीह पंचायत स्थित राघोराम गांव निवासी मंचित मांझी का 10 वर्षीय पुत्र पवन कुमार की मौत पानी में डूबने से हो गई। मुखिया कामनी विनीत ने बताया कि मंचित अपने छोटे भाई के बीमार होने की सूचना पर 15 दिन पूर्व ही अपने पैतृक गांव आया था। रविवार को गहरे पानी में पैर फिसल कर गिर गया और डूब गया।

पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया। इधर, सरैया के जैतपुर ओपी क्षेत्र के एसआरपीएस कॉलेज परिसर स्थित पोखर में डूबने से विवाहिता की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि स्थानीय शिव महतो की शादीशुदा पुत्री पूजा कुमारी कपड़ा साफ करने पोखरा में गई थी, अचानक पैर फिसल जाने के कारण गहरे पानी में चली गई। स्थानीय बच्चों के द्वारा शोर मचाए जाने पर जब तक कुछ लोग उपाय करते तब तक वह डूब गई थी।

दूसरे दिन भी गंडक नदी में डूबे युवक का पता नहीं
जलबोझी के दाैरान शनिवार काे गंडक नदी में डूबे माधोपुर हजारी के सन्तोष कुमार सिंह के 20 वर्षीय पुत्र अंकित कुमार उर्फ गोलू का दूसरे दिन भी पता नहीं चला। सीओ राकेश कुमार की पहल पर जिला से एसडीआरएफ की टीम ने गंडक नदी में दिनभर लापता युवक अंकित की तलाश की, लेकिन उसका पता नहीं चला।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- चल रहा कोई पुराना विवाद आज आपसी सूझबूझ से हल हो जाएगा। जिससे रिश्ते दोबारा मधुर हो जाएंगे। अपनी पिछली गलतियों से सीख लेकर वर्तमान को सुधारने हेतु मनन करें और अपनी योजनाओं को क्रियान्वित करें।...

और पढ़ें