पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बाढ़ के पानी ने बढ़ाई परेशानी:बीडीओ ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का किया दौरा, कहा- पीड़ितों को ऊंची जगहों पर जल्द शिफ्ट कराया जाएगा

तुरकौलियाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • तुरकौलिया के आधा दर्जन गांवों में घुसा बाढ़ का पानी, लोगों ने की नाव की मांग

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर बीडीओ राजेश भूषण ने हालात का जायजा लिया। बीडीओ ने बताया कि सपही, वेलवाराय, विजुलपुर आदि पंचायतों में घुमकर हालात का जायजा लिया गया है। जहां खगनी, केवटिया, वेलवा, मंझरिया, वृतियां, सागरा, कोदरवा, मलाही टोला, जटवा, सरिसवा आदि गांवों में पानी घुसा हुआ है। पानी अभी निचले स्तर तक है। लेकिन ज्यादा पानी होने पर सभी घरों के अंदर पानी प्रवेश कर जाएगा। वही तुरकौलिया पश्चिमी पंचायत के बलही गांव और तुरकौलिया पूर्वी पंचायत के मंझार व पिपरिया में भी पानी घुसने की सूचना मिल रही है। सीआई को भेजकर वहां की हालात की जानकारी ली जा रही है।

बीडीओ ने यह भी बताया कि जहां पानी घरों के अंदर घुस गया है। वहां के पीड़ितो को दूसरे ऊंची जगहों पर शिफ्ट कराया जाएगा। साथ ही सभी तरह की सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी। इसके प्रशासनिक स्तर पर बात हो रही है। साथ ही कहा कि तुरकौलिया पश्चिमी पंचायत के बलही गांव में दर्जनों घर पानी से घिर गया है। बाहर आने-जाने के लिए गांव वालों ने नाव की मांग किया है। बलही के लिए जल्द ही नाव की व्यवस्था की जाएगी। यहां बता दें कि बरही गांव चोरों तरफ से नदी से घिरा हुआ है। सिकरहना नदी से जुड़ाव होने के कारण गांवों चोरों तरफ से पानी से घिर गया है। मंजर आलम, मो0 हुसैन, शेख नवाब, शेख सलाउद्दीन, शेख अजहर, शेख कलाम, शेख शमसाद, शेख नुरूल्लाह आदि ने बताया कि इन लोगों का घर चारों तरफ से पानी से घिर गया है।

कई दिनों से घर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। हाट-बाजार जाने के लिए प्रशासन से नाव की मांग की गई है। ताकि बाजार जाकर आवश्यक खाद्य सामग्री खरीदा जा सके। गेहूं पिसवाने व धान कुटवाने और साग-सब्जी लाने-जाने का कोई रास्ता नहीं है। नाव की व्यवस्था नही होगी तो वह लोग भुखमरी का शिकार हो सकते हैं।

खबरें और भी हैं...