पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अंतिम विदाई:पंचतत्व में विलीन हुए सीआरपीएफ जवान मनोज मल्लिक, जम्मूतवी में हुई थी माैत

विद्यापतिनगर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • शव यात्रा में उमड़ा जनसमूह, सिमरिया गंगा घाट पर बड़े बेटे सन्नी ने दी मुखाग्नि

प्रखंड के मऊ धनेशपुर दक्षिण पंचायत निवासी पूर्व फौजी स्व.उपेन्द्र मल्लिक के पुत्र सीआरपीएफ जवान मनोज मल्लिक की ड्यूटी के दौरान हुई संदेहास्पद मौत के तीन दिन बाद बुधवार को उनका पार्थिव शरीर सिमरिया घाट के गंगा तट पर पंचतत्व में विलीन हो गया। मंगलवार की देर शाम मनोज के पार्थिव शरीर उनके पैतृक आवास पर पहुंचने के बाद से ही सैकड़ों की संख्या में लोगों की बुधवार की सुबह तक जुटी रही।

लोगों ने अपने वीर सपूत को नम आंखों के बीच विदाई दी। वीर मनोज अमर रहें,जब तक सूरज चांद रहेगा मनोज तेरा नाम रहेगा, भारत माता की जय आदि नारों के बीच जुटी भीड़ ने उनके पार्थिव शरीर के साथ मऊ बाजार सहित पूरे गांव में शवयात्रा निकाली। जवान मनोज मल्लिक की शवयात्रा में हर किसी की आखें नम थीं। बड़े बेटे सन्नी के द्वारा मुखाग्नि देते समय माहौल गमगीन हो गया था।

सीआरपीएफ जवानाें ने दिया गार्ड ऑफ ऑनर
इधर सीआरपीएफ कैंप मुजफ्फरपुर से आए इंस्पेक्टर संजय कुमार मिश्रा व जम्मूतवी स्थित वन तालाब समूह केंद्र सीआरपीएफ कैंपस से पार्थिव शरीर को लेकर आएं एएसआई दीपक कुमार सिंह के नेतृत्व में दर्जन भर जवानों ने मृतक के शव को उनके परिजनों को सौंपा। वहां मौजूद जनसमूह के आंखों से बरबस ही आंसू छलक आएं। परिजनों के करूण-कंद्रण व मातमी चित्कार से माहौल गमगीन बना रहा। सिमरिया के गंगा तट पर सीआरपीएफ जवानों ने मृतक जवान को गार्ड ऑफ़ ऑनर दिया। तत्पश्चात बड़े पुत्र सन्नी कुमार ने मुखाग्नि दी।

पत्नी रेणु देवी ने मौत पर सवाल उठाया
प्रखंड के मऊ धनेशपुर दक्षिण पंचायत निवासी पूर्व फौजी स्व. उपेंद्र मल्लिक के पुत्र सीआरपीएफ जवान मनोज मल्लिक की आकस्मिक मौत सोमवार की सुबह हो गयी। वे जम्मूतवी स्थित वन तालाब समूह केंद्र में बतौर सफाईकर्मी प्रतिनियुक्त थे। सीआरपीएफ जवान मनोज की मौत को संदेहास्पद बताते हुए पत्नी रेणु देवी ने सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि हमारे पति की साजिश के तहत हत्या कर उसे आत्महत्या का स्वरूप दिया गया है।

खबरें और भी हैं...