निर्णय:फ्लाईओवर निर्माण पर लगी एनआईटी की मुहर, पिलर की चौड़ाई होगी कम,ताकि रोड रहे चौड़ा

बिहारशरीफ10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • फ्लाईओवर का निर्माण शुरू होने के पूर्व ही विरोध के कारण 4 माह से मामला अधर में

फ्लाई ओवर का निर्माण शुरू होने के पूर्व ही स्थानीय लोगों के विरोध के कारण 4 माह से मामला अधर ने लटका है। अब फ्लाईओवर निर्माण का कार्य शुरू होने की संभावना बढ़ गई है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एनआईटी द्वारा किए गए सर्वे के बाद निर्माण कार्य पर मुहर लगा दी गई है। हालांकि अभी भी कुछ विभागीय प्रक्रिया शेष है जिसे तेजी से पूरा किया जा रहा है। अब फ्लाईओवर बनना तय माना जा रहा है। निर्माण कार्य को लेकर तैयारी की जा रही है। संवेदक द्वारा भी कागजी प्रक्रिया को पूरा किया जा रहा है। बता दें कि फ्लाई ओवर का निर्माण कार्य जनवरी माह में ही शुरू होना था। लेकिन स्थानीय लोगों के विरोध के बाद काम रोक दिया गया था। अब विभागीय सूत्रों की माने तो एनआईटी द्वारा फ्लाई ओवर निर्माण के लिए मुहर लगा दी गई है। काम शुरू करने के लिए विभाग द्वारा तैयारी भी की जा रही है। उम्मीद है कि अगले माह से काम शुरू हो जाएगा। स्मार्ट सिटी द्वारा एनआईटी के साथ लगातार बैठकें की जा रही है। आवगमन को लेकर फ्लाईओवर की संरचनाओं में बदलाव की संभावना जताई जा रही है।

सर्वे में बढ़ रहा वाहनों का दवाब : स्मार्ट सिटी के अधिकारी की माने तो फ्लाई ओवर का डीपीआर तैयार करने के पूर्व एक सर्वे किया गया था जिसमें इसकी आवश्यकता महसूस हुई थी। इसके बाद जब स्थानीय लोगों का विरोध हुआ तो 19 फरवरी को टाउन हॉल में आम लोगों से सुझाव भी लिए गए। लेकिन कोई साकारात्मक सुझाव नहीं आया।

संरचना में बदलाव की संभावना
सूत्रों के मुताबिक फ्लाईओवर बनना तय है लेकिन संरचनाओं में थोड़ा बहुत बदलाव होने की संभावना है। आरी वाॅल को कम कर दिया गया है। पहले 220 मीटर तक आरी वॉल बनना था लेकिन अब इसे कम करते हुए 120 मीटर कर दिया गया है। इसके अलावे पिलर की चौड़ाई को भी कम करने का प्रयास किया जा रहा है ताकि फ्लाई ओवर के नीचे रोड चौड़ा हो सके। वर्तमान में 2 मीटर चौड़ा पीलर का स्टीमेट तैयार किया गया है। लेकिन इसे डेढ़ मीटर करने का प्रयास किया किया जा रहा है। इसके लिए विभागीय स्तर पर मंथन चल रहा है।

खबरें और भी हैं...