नालंदा में रेप आरोपित को 20 साल की सजा:बहला-फुसलाकर ले जाने व रेप का आरोप, पीड़िता को मिलेगी 7 लाख सहायता राशि

नालंदा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मंगलवार को बिहार शरीफ व्यवहार न्यायालय ने नाबालिग लड़की को बहला-फुसलाकर भगाकर ले जाने व रेप करने के मामले में एक आरोपी को दोषी पाते हुए 20 साल का कठोर कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही पांच हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। इसके अलावा अपहरण मामले में भी दोषी पाकर पांच साल की सजा व पांच हजार रुपये जुर्माना की सजा सुनाई है। जुर्माने की राशि नहीं देने पर एक साल का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा।

व्यवहार न्यायालय के विशेष पॉक्सो जज आशुतोष कुमार ने रेप मामले में सुनवाई करते हुए आरोपित मिट्ठू पासवान को यह सजा सुनाई है। जज ने पीड़िता को पीड़ित प्रतिकर योजना के तहत सात लाख रुपये की सहायता राशि देने का आदेश दिया है। आरोपित मानपुर थाना क्षेत्र के माजिदपुर गांव का निवासी है।

मामले में अभियोजन की ओर से स्पेशल पीपी जगत नारायण सिन्हा ने बहस की थी। उन्होंने बताया कि 27 सितम्बर 2020 को 10 बजे दिन में गांव की एक महिला आई और पीड़िता को घास गढ़ने के बहाने गांव से बाहर खंधा में ले गयी। काफी समय बाद तक जब पीड़िता नहीं लौटी। तो परिजन खोजबीन करने लगे। इसी दौरान परिजन को जानकारी हुई कि आरोपित मिट्ठू पासवान उसे बहला-फुसलाकर बाइक पर बैठा कर ले गया है।

बाद में पीड़िता अपने बयान में बतायी थी कि आरोपी उसे बाइक पर बैठाकर हरनौत ले गया। वहां किराए के मकान में उसे रखा और उसके साथ लगातार रेप करता रहा। मामले में पीड़िता की ओर से सभी छह ने गवाही दी थी। जबकि आरोपित ने भी अपने बचाव में 4 लोगों की गवाही दिलाई थी।

खबरें और भी हैं...