• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Nalanda
  • LJP(R)'s Three day Training Camp Concluded At Nalanda, Chirag Predicted There Will Be Mid term Elections In Bihar

नालंदा में LJP (R) का तीन दिवसीय प्रशिक्षण शिविर संपन्न:चिराग ने की भविष्यवाणी- बिहार में होगा मध्यावधि चुनाव

नालंदा4 महीने पहले

राजगीर के अंतरराष्ट्रीय कन्वेंशन सेंटर में आयोजित लोजपा (R) का तीन दिवसीय प्रशिक्षण शिविर आज सम्पन्न हो गया। प्रशिक्षण शिविर के समापन समारोह को संबोधित करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने कहा कि तीन दिनों के प्रशिक्षण से लोजपा (R)के कार्यकर्ताओं में एक जोश और जुनून का संचार हुआ है,जिससे पार्टी की मजबूती बूथ स्तर तक होगी। उन्होंने कहा कि यह प्रशिक्षण शिविर ही नहीं बल्कि आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारी भी है।

उन्होंने कहा कि लोजपा आर के संस्थापक व मेरे पिता स्व. रामविलास पासवान जी को लोग मौसम वैज्ञानिक कहा करते थे, मैं भी उन्हीं का अंश हूँ, मैं ये दावे के साथ भविष्यवाणी कर रहा हूँ कि प्रदेश में मध्यावधि चुनाव होना तय है।चिराग पासवान ने मुख्यमंत्री पर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि मैं विधानसभा चुनाव के बाद ही 2020 में भविष्वाणी किया था कि बहुत जल्द नीतीश कुमार अपना पाला बदल लेगें और महागठबंधन में जायेगें, ऐसा ही हुआ,पाला बदल महागठबंधन में चले गए। चिराग ने कहा कि पिछले आठ सालों में शपथ ग्रहण हुआ है, लेकिन सिर्फ उप मुख्यमंत्री बदला है।

ये सरकार ब्यक्तिगत महत्वाकांक्षी को पूरा करने के लिये बनी है।मुख्यमंत्री को कुर्सी चाहिये,चाहे जैसे भी हो। नीतीश कुमार को कुर्सी जाने का खतरा महसूस हो रहा था,उन्हें लग रहा था कि सम्भतः भाजपा तोड़फोड़ करेगी,इसलिये पाला बदल राजद के साथ चले गए। अभी जो परिस्थिति पैदा होने लगा है,वह और भी मुखर होगा। जैसे जैसे चुनाव नजदीक आएगी माहौल बदलेगा। आज पूरे प्रदेश में बढ़ती अराजकता,आपसी टकराव ही मध्यावधि चुनाव का रास्ता साफ करेगा।

अभी अपराधियों का मनोबल बढ़ा हुआ है,खुलेआम गोलियां चलाई जा रही है। उन्होंने जंगलराज की चर्चा करते हुए कहा कि ,2005 में नीतीश कुमार जंगल राज का नाम लेकर सत्ता में आये। इतना ही नही डेढ़ साल पहले तक जब भी मुख्यमंत्री से कोई पूछता था कि आपके 15 साल के शासन में क्या विकास हुआ है,तो वे कहते थे कि आप अपने बुजुर्गों से पूछिए की क्या था और आज की स्थिति क्या है।चिराग पासवान ने कहा कि आज जो स्थिति है जिसे देखकर यह कहना है सही होगा कि आज डबल जंगल राज है।

उन्होंने कार्यकर्ताओं को कहा कि हमें अपने संगठन पर ध्यान देना है। हमलोग ऐसे नेता के आदर्श पर चल रहे हैं जिन्होंने सत्ता को लात मार शोषित गरीबो का हक के लिये हमेशा लड़ा। बिहार फर्स्ट और बिहारी फर्स्ट को भूलकर मैं नीतीश कुमार के साथ चला जाता तो उम्र भर अपने नेता से नजर नही मिला पता। हमारे संस्थापक हमेशा उनके लिये लड़ाई लड़े। जिन्हें अबतक सताया जा रहा है।वे हमेशा सच्चाई की राह पर चले ,चाहे जो बलिदान देना पड़ा हो।

यह पार्टी सत्ता के लिए नही ,बल्कि हमलोग बिहार पर नाज के लिये लड़ रहे हैं,बिहार के गौरव के लिये लड़ रहे हैं। एक समय में नालन्दा विश्वविद्यालय की चर्चा पूरे दुनिया मे हुआ करता था,लेकिन आज बिहार में शिक्षा की स्थिति जो है वो बेहद ही बदतर है। शिक्षा के लिये अलख जगाना पड़ता है। कभी भी आपने नही सुना होगा कि कोई शिक्षा पाने के लिय बिहार आ रहे हैं।

आज हमलोगों के पास आजादी का अमृत महोत्सव मनाने के लिये अपने प्रदेश में कुछ भी नहीं है। चिराग ने नीति आयोग की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए कहा कि हर क्षेत्र में सबसे पीछे हमारा प्रदेश है,लेकिन हिंसा और भ्रष्टाचार में पहले पायदान पर चर्चा होती है।कभी भी कोई बड़ी निवेश को लेकर कोई बड़ी खबर की सुर्खियां बिहार में नहीं होती है। जहाँ भी जाता हूँ बिहारियों से बात करता हूँ और उनके परिस्थितियों से अवगत होता हूँ।अन्य प्रदेशों में बिहारी शव्द को गाली बना दिया,लेकिन हमारे मुख्यमंत्री चुपचाप देखते रहे।

लॉक डाउन में आंकड़ा मांगा की कितने लोग बाहर प्रदेश में काम करते हैं, उसके आंकड़े भी हमारे मुख्यमंत्री के पास नही थे।इतना ही नही यूक्रेन में हमारे राज्य के कितने छात्र थे ये भी जानकारी नहीं है। सुशांत सिंह राजपूत की जान किस परिस्थितियों में हुई जानने की कोशीश नही किया। उन्होंने पार्टी के सभी नेताओं को कहा कि आपलोग जन जन तक जाएं और हरेक व्यक्ति को बताएं। कि एक मुखिया कि जम्मेदारी हर लोगों को एक साथ बांधकर रखने की है,लेकिन हमारे मुख्यमंत्री जाती में बांटने का काम करते है।

चिराग ने कहा कि रामविलास पासवान जी के संघर्ष को जानने की जरूरत है। वे किस हालात में अपने जिंदगी की सफर को तय किए। वें सन 1969 में विधायक बने,जिसके बाद 20 साल तक हमारे नेता को कितनी यातनाएं झेलना पड़ी,कितनी बार उनकी राजनीतिक पारी को समाप्त करने की कोशिश की गयी।बाबजूद रामविलास पासवान अपने संघर्ष के बदौलत पूरे दुनिया मे जाने जाते हैं। जरूरत है की हमारा कार्यकर्ता उनके हरेक सिद्धांत को लेकर चले। उन्होंने कभी किसी जाति और धर्म को नही माना,हमेशा गरीब को आगे ले जाने के लिये काम करते रहें।

हमलोगों को हर किसी को साथ लेकर चलना है,समाज में किसी भेदभाव के बिना अपने कार्य को करना है। अमीर गरीब की खाई को पाटने की जरूरत है तभी प्रदेश को विकसित कर सकेगें।अपनी पार्टी की उपलब्धि को हर लोगों को बताए। रामविलास पासवान ने ही मण्डल कमीशन को लागू करा संबैधानिक दर्जा दिलाया। सबसे पचले हमलोग बिहारी है,हमलोग अपने स्वाभिमान की लड़ाई नही लड़ेगें ,तो लोग बांटते रहेगें। बिहार एक युवा प्रदेश है, 65 प्रतिशत बिहार में युवा है,यदि हम सब युवा एकत्रित हो जाएं तो कुछ भी मुमकिन हो सकता है, लेकिन आज की सरकार युवाओं की ताकत को तोड़ने के लिये जाती मजहब में बांट दी है।

राष्ट्रीय युवा आयोग की जरूरत

चिराग पासवान ने कहा कि इतनी बड़ी तादाद युवाओं की है बाबजूद युवाओं का कोई आयोग नही है।आज देश मे राष्ट्रीय युवा आयोग की जरूरत है,ताकि युवाओं को बेहतर शिक्षा की समस्या, पढ़ाई लोन चुकाने की समस्या,आदि का निराकरण हो सके।हमारे प्रदेश के युवा युवा खेलकूद में भी काफी पीछे है जबकि हरियाणा जो कि भौगोलिक दृष्टि से काफी छोटा होकर भी युवाओं को खेलकूद में काफी प्रेरित कर रहा है।चिराग पासवान ने कहा कि जब भी लोजपा आर की सरकार बनी तो राष्ट्रीय युवा आयोग का गठन करेगें।इसके अलावे आईटी हव बनेगा।

नीतीश कुमार ने महिलाओं के साथ किया है धोखा

चिराग पासवान ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के महिला सशक्तिकरण पर भी जमकर भड़ास निकाली, कहा कि प्रदेश में महिलाएं जो आधी आबादी का प्रतिनिधत्व करती है,लेकिन मुख्यमंत्री ने महिलाओं को अपना वोट बैंक के रूप में सिर्फ इस्तेमाल किया है,आज शराब बंदी में सबसे ज्यादा प्रताड़ित महिला ही हो रही है।शराबबंदी के लिये शसक्त कानून बनाया होता तो आज ये स्थिति नही होती।आज भी महिला उसी बदहाल परिस्थिति में जी रही हैं। महिलाओं से ही सृष्टि चल रही है, महिलाओं का सम्मान करना जरूरी है। जो कोई भी महिला का सम्मान नही करता उसे भगवान भी माफ नही करते हैं,सबसे बड़ा भगवान इस धरती पर मां है। अगर हमारी सरकार बनी तो महिला आरक्षण क़ानून बना कर महिलाओं को आगे बढ़ाया जाएगा।

माइनॉरिटी में सिर्फ मुस्लिम ही नही बल्कि सिख,ईसाई बौद्ध सभी है,समाज के हर वर्ग को साथ लेकर ही विकसित प्रदेश की कल्पना सम्भव है। उन्होंने महागठबंधन के एमवाई समीकरण पर चर्चा करते हुए कहा कि सही मायने में महिला और युवा का एमवाई समीकरण होना चाहिये। प्रशिक्षण शिविर के समापन के मौके पर सभी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को प्रोटोकॉल का पालन करने और अपने से बड़े का सम्मान करने की कहीं, कहा कि पार्टी में अनुशासन की जरूरत है, हमेशा उम्र एवं पद का ख्याल ,और पार्टी के प्रति समर्पण को सम्मान दें। इस मौके पर कार्यकर्ताओं के द्वारा सोने की मुकुट भेंट कर उन्हें सिक्को से भी तौला गया।

खबरें और भी हैं...