नालंदा के सरकारी उर्दू स्कूल में फहराया SDPI का झंडा:झंडे के नीचे खड़े होकर दी सलामी; फोटो सामने आने पर हरकत में प्रशासन

नालंदा2 महीने पहले

नालंदा के एक सरकारी उर्दू स्कूल में PFI (पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया) के राजनीतिक संगठन सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) का झंडा फहराया गया। इसकी तस्वीरें सोमवार को सामने आई हैं। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि झंडा फहराया कब गया है? प्रशासन ने अब मामले की जांच कर कार्रवाई किए जाने की बात कही है।

पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दीजिए...

मामला सोहसराय थाना इलाके के उर्दू प्राथमिक विद्यालय, सोहडीह का है। सामने आई तस्वीरों में दिख रहा है कि कुछ लोग जिनमें बच्चे भी शामिल हैं, SDPI के लाल-हरे रंग के झंडे के नीचे खड़े होकर उसे सलामी दे रहे हैं। कुछ युवकों ने SDPI लिखा लाल-हरे रंग का पट्टा भी गले में पहन रखा है। नीचे जमीन पर भी झंडे की आकृति बनी है। SDPI लिखा है और फूल गिरे हैं। इससे पता चल रहा है कि झंडे को ठीक उसी तरह फहराया गया है, जैसे आम तौर पर तिरंगा फहराया जाता है।

प्रशासन ने कहा कि इस मामले में स्कूल का कोई रोल मिला तो एक्शन लिया जाएगा।
प्रशासन ने कहा कि इस मामले में स्कूल का कोई रोल मिला तो एक्शन लिया जाएगा।

मामला सामने आने के बाद आज मीडिया ने बिहार शरीफ के SDM कुमार अनुराग से बात की। उन्होंने कहा कि जिस तरह स्कूल परिसर में SDPI का झंडा फहराया गया है, यह खुलेआम कानून का उल्लंघन है। फोटो किस महीने की है, इसकी जांच की जा रही है। जो भी लोग इसमें शामिल हैं, फोटो से पहचान कर उन पर कार्रवाई की जाएगी।

उन्होंने कहा कि विद्यालय प्रशासन को इस मामले की जानकारी है या नहीं, उनसे भी इस संबंध में पूछा जाएगा। इसमें अगर स्कूल का रोल मिला तो उनके ऊपर भी कार्रवाई की जाएगी।

आतंकी गतिविधियों में नाम आने से चर्चा में आया SDPI
जुलाई में पटना पुलिस की कार्रवाई के बाद फुलवारी शरीफ से पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) से जुड़े लोग पकड़े गए थे। इन पर देश विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप लगे। SDPI इसी PFI का राजनीतिक संगठन है। जांच एजेंसियों ने इन दोनों संगठनों से जुड़े लोगों पर देशविरोधी और आतंकी कामों में शामिल होने के आरोपों पर कार्रवाई की है।

पटना में जिन 26 संदिग्धों पर FIR हुई वो PFI और SDPI से जुड़े थे

  • पटना पुलिस ने देश के खिलाफ साजिश रचने के आरोप में चार संदिग्धों को गिरफ्तार किया है। ये हैं अतहर परवेज, मो. जलालुद्दीन, अरमान मलिक और एडवोकेट नूरुद्दीन जंगी। पुलिस के मुताबिक ये चारों ही PFI से जुड़े हैं।
  • PFI बिहार में साल 2016 से सक्रिय है। पूर्णिया जिले में संगठन ने हेडक्वार्टर स्थापित करने की तैयारियां की थीं। इसके अलावा राज्य के 15 से अधिक जिले में ट्रेनिंग सेंटर भी चलाए हैं।
  • पटना में गिरफ्तारियों के बाद अब जांच NIA कर रही है। NIA ने PFI का नेटवर्क तलाशने के लिए बिहार के कई शहरों में छापेमारी भी की है।
  • पटना में जांच से जुड़े अधिकारियों ने भास्कर को बताया है कि PFI अनपढ़, बेरोजगार मुस्लिम युवाओं को टारगेट करके अपने साथ जोड़ रहा है। पुलिस जांच में सामने आया है कि युवाओं को हथियार चलाने की ट्रेनिंग भी दी गई है।
  • PFI के तार विदेशों से जुड़े होने और बाहर से फंडिंग की भी जांच की जा रही है। पुलिस को PFI के अकाउंट में 90 लाख रुपए मिले हैं।
  • अतहर ने पुलिस को बताया था कि उसने 26 लोगों को ट्रेनिंग दी थी। इन सभी के खिलाफ FIR दर्ज की गई है। सभी पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) और सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) से भी जुड़े थे।