पप्पू ने सोनू को दिए 50 हजार:मदद के बाद सुशील मोदी पर कसा तंज, कहा- बॉडीगार्ड को तो खिला नहीं पाए...

नालंदा2 महीने पहले

पूरे बिहार में चर्चित हो चुके नालंदा के सोनू कुमार से मिलने वाले नेताओं का तांता लगा हुआ है। सुशील मोदी के बाद अब जाप सुप्रीमो पप्पू यादव भी बुधवार को हरनौत के निमाकोल पहुंचे। उन्होंने उसे 50 हजार की आर्थिक मदद की। इस दौरान उन्होंने पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी पर तंज भी कसा और कहा कि वे अपने बॉडीगार्ड को तो खिला नहीं पाए, उनके 3 हजार महिना में क्या होगा।

पप्पू यादव ने पत्रकारों से बात की और पक्ष-विपक्ष पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा, 'नेता पॉलिटिकल इवेंट न करें। गरीब बच्चों के लिए फ्री शिक्षा की व्यवस्था करें। बच्चे और बच्चियों की बेहतर शिक्षा व्यवस्था के लिए कस्तूरबा विद्यालय खुलवाएं। सुशील मोदी की सरकार है, वो हर जिले में एक नवोदय और सैनिक स्कूल खुलवाए। स्कूलों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षक की जरूरत है।'

सोनू के साथ पप्पू यादव।
सोनू के साथ पप्पू यादव।

पप्पू यादव ने कहा, 'सुशील मोदी बाढ़ में अपने बॉडीगार्ड को नहीं खिला पाएं और तीन हजार रुपए महीना से क्या होगा। साथ ही देश में जारी मंदिर-मस्जिद विवाद को लेकर कहा कि देश को विश्वगुरु बनाने की बात करने वाले नेता आज हिंदू मुस्लिम वोट के लिए ये सब कर रहे हैं। असल मुद्दे से भटका रहे हैं।' बता दें सुशील मोदी ने सोनू को अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया था। उन्होंने मीडियाकर्मियों के सामने घोषणा की थी कि वे हर महीने सोनू के बैंक खाते में दो से तीन हजार रुपए भेज दिया करेंगे, जिससे पढ़ाई के अतिरिक्त उसका खर्च जुट सके। उन्होंने अन्य सरकारी लाभ दिलाने का भी भरोसा दिलाया था।

CM नीतीश को रोककर बोला था- पापा रोज दारू पीते हैं...

बता दें कि सोनू तब चर्चा में आया था जब उसने CM नीतीश से हाथ जोड़ कर पढ़ाई करवाने की गुहार लगाई थी। सोनू ने कहा था, 'पिता रणविजय यादव दही बेचने का काम करते हैं। उसी कमाई का रुपए से शराब पी जाते हैं। गरीब परिवार से होने के कारण मध्य विद्यालय नीमा कौल के सरकारी स्कूल में पढ़ता हूं। वहां शिक्षकों को भी अच्छी गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने नहीं आता है। सोनू ने कहा, 'पापा शराब पीते हैं, मैं जो पढ़ाकर पैसा लाता हूं, वो सब खत्म हो जाता है, सरकारी स्कूल में सर को कुछ नहीं आता है। अगर सरकार हमें मदद करे तो मैं भी पढ़ लिखकर IAS-IPS बनना चाहता हूं।' सोनू 5वीं कक्षा तक के 40 बच्चों को शिक्षा देकर अपनी पढ़ाई का खर्च निकालता है। बच्चे की बात सुन मुख्यमंत्री ने तुरंत अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए थे।

छठी क्लास के सोनू की दो टूक जवाब सुन तेज प्रताप ने काटा फोन

खबरें और भी हैं...