मानसून सक्रिय:दिनभर झमाझम बारिश, ककोलत में आई भीषण बाढ़

नवादाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बारिश के बाद बढ़ा जलस्तर। - Dainik Bhaskar
बारिश के बाद बढ़ा जलस्तर।
  • प्रचंड गर्मी के बाद सक्रिय हुआ मानसून, अगले तीन दिनों तक जिले में बारिश के आसार, किसानों में खुशी

पूरा जून महीना गर्मी से तप ने के बाद आखिरकार जिले में मानसून सक्रिय हुआ है और घनघोर बादल के साथ जाता बारिश शुरु हो गई है। कौवाकोल में लगातार दूसरे दिन वज्रपात से मौत की भी घटना हुई है। जिले के कुछ इलाकों में दिनभर बारिश हुई तो कहीं बूंदाबांदी हुई। हालांकि अगले कुछ दिनों तक जिले भर में भारी बारिश के अनुमान है। कौवाकोल गोविंदपुर इलाके में तेज बारिश हुई और इस सीजन में पहली बार ककोलत जलप्रपात का जलस्तर अचानक बढ़ गया है। जलधारा तेज होने के बाद अफरा-तफरी मच गई और सैलानियों को वहां से दूर हटाया गया है। इधर सकरी नदी में भी पानी का बहाव तेज हुआ है। आसमान में बादल छाने और बारिश के बाद तापमान में भी बड़ी गिरावट दर्ज की गई है।

जिले का अधिकतम तापमान 5 डिग्री नीचे आया है। बता दें कि पूरे जून महीने में किसान बारिश का इंतजार कर रहे हैं। जून महीना समाप्त हो गया है लेकिन मौसम का उतार-चढ़ाव जारी है और मानसून का इंतजार हो रहा है। बादल उमड़ घुमड़ रहे हैं लेकिन बारिश नहीं हो रही थी। कृषि विज्ञान केंद्र के मौसम वैज्ञानिक रोशन कुमार के अनुसार जिले में अब मानसून सक्रिय हो रहा है। कई इलाकों में बारिश शुरू हुई है और कई इलाकों में रात तक बारिश के होने के आसार हैं। बादल जम रहा है और मौसम में हलचल बढ़ गई है। आज भी मानसून के बारिश होने के अनुमान है। मानसून आने के बाद बारिश से राहत मिल सकती है।

ककोलत जलप्रपात का जलस्तर अचानक बढ़ा, बाढ़ आने से सैलानियों में अफरा-तफरी मचा , अलर्ट जारी किया गया

ककोलत में आई बाढ़ के बाद सैलानियों को कुंड से निकाला गया

गोविंदपुर प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत बिहार का कश्मीर कहा जाने वाला ककोलत जलप्रपात में बुधवार को अचानक बाढ़ आ गया। बाढ़ आने से सैलानियों में अफरा-तफरी मच गई। लोग कुंड से निकलकर भागने लगे। कई पर्यटकों को केयर टेकर यमुना पासवान की टीम द्वारा सुरक्षित बाहर निकाला गया। बाढ़ आने की संभावना होते ही कुंड में स्नान कर रहे सैलानियों को सुरक्षित बाहर निकाला गया ताकि किसी प्रकार की अप्रिय घटना ना घटे। ककोलत के केयरटेकर यमुना पासवान ने बताया कि झरना और कुंड में सैलानी स्नान कर रहे थे। बाढ़ की आवाज सुनते ही सभी पर्यटक व सैलानियों को कुंड और झरना के पास से हटाया गया। हटाते हटाते बाढ़ आ गई। लेकिन सभी को सुरक्षित निकाला गया है। किसी प्रकार की अप्रिय घटना नहीं घटी है।

कौआकोल के मड़पो गांव में वज्रपात से महिला की मौत

कौआकोल थाना क्षेत्र के मड़पो गांव में बुधवार को वज्रपात से एक महिला की दर्दनाक मौत हो गई। घटना के बाद गांव में कोहराम मच गया। बताया जाता है कि मड़पो गांव निवासी गोरेलाल महतो की लगभग 40 वर्षीय पत्नी शिवकुमारी देवी खेत मे काम कर अपना घर लौट रही थी, इस बीच अचानक तेज बारिश शुरू हो गई। महिला बारिश से बचने के लिए पास के ही सामुदायिक भवन में जाकर छिपना चाही, तभी अचानक आकाशीय बिजली टूट पड़ा। जिससे महिला बुरी तरह झुलस गई। स्वजनों के सहयोग से वज्रपात से बुरी तरह झुलसी महिला को कौआकोल पीएचसी में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के क्रम में उनकी मौत हो गई। घटना की सूचना मिलने के बाद कौआकोल पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए नवादा भेज दिया। घटना के बाद स्थानीय मुखिया प्रतिनिधि विनोद यादव ने पीड़ित परिवार से मिलकर सांत्वना प्रदान की है।

10 सालों में सबसे कम बारिश इस साल जून में
आंकड़े पर गौर करें तो पिछले 10 सालों में इस साल जून में सबसे कम बारिश हुई है। चिंता इस बात की है कि जब-जब जून महीने में कम बारिश हुई तब तक जिले में सूखा पड़ा है। इस बार भी यही बात चिंता की बात यही है। पिछले साल के जून महीने में 347 एमएम बारिश हुई है जबकि इस साल जून में अब तक 29 एमएम बारिश हीं हुई है। जिला कृषि विभाग द्वारा जारी आंकड़े के अनुसार 29 जून तक जिले में 29.84 एमएम बारिश 10 सालों में जून माह में हुई यह सबसे कम बारिश है। हालांकि बुधवार की शाम हुई बारिश से आंकड़ा बदल सकता है।

ऐसा ही बना रहेगा मौसम
मानसून सक्रिय होने के बाद से बारिश शुरू हुई है। जिले के ग्रामीण इलाकों में कही तेज बारिश तो कही बूंदाबांदी हुई। बादल व बारिश के कारण मौसम सुहाना है। मौसम वैज्ञानिक अगले तीन दिनों में मौसम का मिजाज कुछ इसी तरह रहने का अनुमान है। जिले में अधिकतर स्थानों पर वर्षा की संभावना बनी है।

झमाझम बारिश ने सरकारी व्यवस्था की पोल खोली​​​​​​​

रजौली | रजौली प्रखंड में बुधवार की दोपहर झमाझम वर्षा से जहां लोगों को उमस भरी गर्मी से राहत मिली। वहीं सरकारी व्यवस्था की पोल खोल कर रख दिया। वर्षा से बाजार के मेन रोड, नीचे बाजार रोड, बाईपास चौक व पुरानी बस स्टैंड सहित कई अन्य हिस्सों में जलजमाव हो गया। सबसे अधिक जलजमाव बाईपास रोड में हुआ जहां लोगों का जलजमाव के कारण आवागमन भी कम हुआ।

खबरें और भी हैं...