नगर निकाय चुनाव में महागठबंधन में दिखेगा बिखराव:मुख्य पार्षद पद के लिए जदयू खेमे से दो प्रत्याशी, अंतिम दिन राजद खोलेगा पत्ता

नवादा15 दिन पहले

नवादा में नगर निकाय चुनाव में महागठबंधन में बिखराव देखने को मिल सकता है। हालांकि, यह चुनाव दलीय आधार पर नहीं हो रहा है। लेकिन भीतरखाने सभी दल अपने समर्थित उम्मीदवार को चुनाव मैदान में उतार रहे हैं। सोमवार को नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि है। अब तक नवादा नगर परिषद के मुख्य पार्षद पद के लिए तीन नामांकन हुए हैं। जिसमें जदयू खेमे से दो प्रत्याशियों ने नामजदगी के पर्चे दाखिल किया है। वहीं एक अन्य में विहिप नेता की बहू शामिल है।राजद अंतिम दिन अपना पत्ता खोलेगा।

मुख्य पार्षद और पूर्व मुख्य पार्षद की पत्नी ने कराया नामांकन

जदयू खेमे से दो उम्मीदवार ने अबतक नामांकन कराया है।दोनों पूर्व विधायक व पार्टी के वरिष्ठ नेता कौशल यादव के नजदीकी रहे हैं। निवर्तमान मुख्य पार्षद पूनम कुमारी चन्द्रवंशी एक बार चुनावी मैदान में है तो पूर्व मुख्य पार्षद संजय साव की पत्नी पिंकी कुमारी ने भी नामांकन कराया है।निवर्तमान मुख्य पार्षद पूनम के पति रविशंकर जदयू के नवादा नगर अध्यक्ष पद पर हैं।

राजद समर्थित प्रत्याशी का हो सकता है नामांकन

सोमवार को नामांकन की अंतिम तिथि है। राजद समर्थित प्रत्याशी के नामांकन की ओर सबकी निगाहें टिकी हैं। हालांकि अभी तक पार्टी ने पत्ता नहीं खोला है।वैसे नवादा में राजद भी दो गुटों में बंटा हुआ है। यहां जिला संगठन और विधायक गुट अलग-अलग काम कर रहा है। दोनों एक-दूसरे के विरोधी बने हुए हैं। ऐसे में कोई एक गुट नामांकन कराता है तो दूसरा गुट भी सामने खड़ा हो सकता है, इसकी भी सम्भावना बनी है।एक गुट के पुराने नेता ने बताया कि अंतिम दिन सबकुछ सामने होगा।यह भी हो सकता है कि नामांकन कराने वाले किसी उम्मीदवार को पार्टी की तरफ से समर्थन दे दिया जाए।

विहिप नेता की बहू भी उतरी मैदान में

विहिप नेता कैलाश विश्वकर्मा की बहू कंचन विश्वकर्मा भी चुनाव मैदान में हैं।माना जा रहा है कि भाजपा का समर्थन मिले।हालांकि भाजपा नेता अभी कुछ भी बोलने बताने से बच रहे हैं। वैसे विहिप,बजरंग दल से जुड़े कई लोग कंचन के पक्ष में खुलकर प्रचार करने में जुट गए हैं।