नवादा में लकड़ी तस्कर गिरफ्तार:8 साल से बिहार की कीमती लकड़ी को झारखंड में करता था सप्लाई

नवादा2 महीने पहले

नवादा वन विभाग की पुलिस ने रजौली जंगल से लाखों की बेशकीमती लकड़ियों के साथ एक लकड़ी तस्कर को गिरफ्तार किया है। यह कार्रवाई गुप्त सूचना के आधार पर किया गया है। गिरफ्तार लकड़ी तस्कर की पहचान छतनी गांव निवासी पिंटू कुमार के रूप में किया। बताया जा रहा है कि पिंटू रजौली जंगल से बेशकीमती लकड़ियों को काटकर वाहन से ले जा रहा था, तभी वन विभाग को इसकी गुप्त सूचना मिली।

जिसके बाद वन विभाग की पुलिस बिना समय गवाएं अवैध जंगली लकड़ी के साथ तस्कर को गिरफ्तार कर लिया। जब्त लकड़ियों की कीमत लाखों में आका जा रहा है। गिरफ्तार लकड़ी तस्कर पर वन अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है। आपको बता दें कि लकड़ी तस्कर रजौली जंगल से बेशकीमती लकड़ियों को काटकर झारखंड में बेच रहे हैं। इसके कारण रजौली जंगल धीरे-धीरे वीरान होते जा रहा है।

हालांकि वन विभाग की टीम लकड़ी की अवैध कारोबार को रोकने के लिए लगातार कार्रवाई भी कर रही है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि पूरी जंगल में जबरदस्त लकड़ी की कटाव की जा रही है नक्सल प्रभावित क्षेत्र होने के कारण शाम ढलते ही बड़े पैमाने पर बड़े बड़े हरे भरे पेड़ को काटकर गाड़ी में लोड कर माफिया सीधा लेकर चल देते हैं। इन माफियाओं को पकड़ने के लिए भी पुलिस को करी मुसीबत का सामना करना पड़ता है। चारों तरफ पुलिस की आवागमन की आहट के लिए लोगों को खड़ा रखते हैं। वन विभाग के द्वारा बड़े पैमाने पर लकड़ी चोरी करने वाले माफियाओं पर कार्रवाई की जा रही है। लेकिन वन विभाग की भी आंख में धूल झोंक कर धड़ल्ले से पेड़ों की कटाई की जा रही है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि बताया जाता है कि माफिया लगभग 8 वर्षों से इसी तरह के बड़े-बड़े हरे भरे पेड़ को काटकर झारखंड में बेचने का काम करते हैं।

खबरें और भी हैं...