बिहार में 10 लाख बच्चों ने लगवाया कोरोना का टीका:एक भी बच्चे में नहीं हुआ रिएक्शन, अब सेंटर पर बढ़ रही भीड़

पटना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिहार में 15 से 18 साल के 10 लाख बच्चों ने कोरोना वैक्सीन की पहली डोज ले ली है। राज्य में वैक्सीन लेने वाली पहली लड़की ऋतिका से लेकर अब तक किसी में रिएक्शन का मामला सामने नहीं आया है। ऐसे में सेंटर पर वैक्सीन लेने वाले बच्चों की भीड़ बढ़ रही है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक, गुरुवार को 3 लाख से अधिक बच्चों का वैक्सीनेशन हुआ है। बच्चों के वैक्सीनेशन के साथ संक्रमण से बचाव को लेकर भी जिलों में टीमें एक्टिव की जा रही है।

बच्चों के वैक्सीनेशन में आ रही तेजी

बच्चों के वैक्सीनेशन में हर दिन तेजी आ रही है और इसका बड़ा कारण है कि बच्चे हिम्मत जुटा रहे हैं। गार्जियन भी बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए पीछे नहीं हट रहे हैं। गुरुवार को 3,12,973 लोगों ने वैक्सीनेशन कराया है। बिहार में 3 जनवरी के बाद से अब तक 10,67,405 लोगों का वैक्सीनेशन कराया गया है। पटना में 3 जनवरी को सीएम नीतीश कुमार ने बच्चों के वैक्सीनेशन की IGIMS से शुरुआत की थी और अब इसमें रफ्तार बढ़ रही है।

आयुक्त ने की बच्चों के वैक्सीनेशन की समीक्षा

पटना के प्रमंडलीय आयुक्त कुमार रवि और पुलिस महानिरीक्षक राकेश राठी ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को लेकर प्रमंडल के सभी DM-SP, सिविल सर्जन और अन्य उच्चाधिकारियों के साथ बैठक में बच्चों के वैक्सीनेशन में तेजी लाने के साथ-साथ कोरोना को लेकर सख्ती बरतने का आदेश दिया है। कमिश्नर ने 15 से 18 आयु वर्ग के बच्चों के वैक्सीनेशन को लेकर समीक्षा भी की है। इसमें पाया गया कि 5 जनवरी को प्रमंडल के 6 जिलों में कुल 61,085 बच्चों का वैक्सीनेशन किया गया। 5 जनवरी तक कुल 1,55,670 बच्चों का वैक्सीनेशन किया गया है।

कोरोना प्रोटोकॉल को लेकर बढ़ेगी सख्ती

पटना के प्रमंडल आयुक्त ने कोरोना के प्रोटोकॉल काे लेकर सभी जिलों के धावा दल को पूरी तरह से एक्टिव करने को कहा है। कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने वालों से जुर्माना वसूलने का भी निर्देश दिया गया है। इसके लिए मास्क का प्रयोग करने से लेकर सोशल डिस्टेंस पर जोर देने को कहा गया है। दुकानों और वाहनों तथा भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों में मास्क के प्रयोग की जांच करने तथा कार्रवाई का भी निर्देश दिया गया है। कोविड मानक का पालन सुनिश्चित कराने को लेकर माइकिंग करने को कहा गया है तथा प्रतिदिन रिपोर्ट देने का निर्देश दिया गया है। कोविड संक्रमण के प्रभाव को देखते हुए लोगों को सतर्क और सावधान रहने को कहा गया है।

अस्पतालों में चल रही कोरोना की तैयारी

पटना से लेकर राज्य के अन्य अस्पतालों में कोरोना को लेकर बड़ी तैयारी चल रही है। संबंधित जिलों के DM को प्राइवेट लैब के साथ बैठक करने को कहा गया है। साथ ही बेड की क्षमता, ऑक्सीजन सिलेंडर, ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, आईसीयू बेड, दवा के साथ अन्य संसाधनों की समीक्षा करने का निर्देश दिया गया है।