• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Advocate And RTI Activist Afraid For Sand Mafia; Appeal From CM Nitish For Security

बिहार में बालू माफिया से लड़ाई में जान का खतरा:मोर्चा लेने वाले ने CM से कहा- जान बचा लीजिए, बदले की भावना से हो रहा हमला

पटना9 महीने पहले
सीएम नीतीश कुमार, फाइल इमेज।
  • बालू माफिया के खिलाफ सरकार का चल रहा एक्शन, कई पुलिस और राजस्व अधिकारियों पर गिरी है गाज

बालू माफिया से लड़ाई में बिहार के एक वकील की जान पर बन आई है। पटना हाईकोर्ट के अधिवक्ता मणिभूषण प्रताप सेंगर भी माफिया से डर गए हैं, अब वह केंद्र व प्रदेश सरकार से जान की सुरक्षा मांग रहे हैं।

CM से मांगी सुरक्षा, कहा आपके हाथ है जान

उन्होंने CM नीतीश कुमार से कहा है कि वह लगातार बालू माफिया के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं। अब सरकार भी पूरी तरह से एक्शन में है। इससे निशाने पर वह भी आ गए हैं, उन्हें धमकी मिल रही है। उनकी जान को खतरा है। वह बार-बार सुरक्षा की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार ध्यान नहीं दे रही है। बालू को लेकर लगातार हो रहे मर्डर से वह भयभीत हैं।

कोरोना काल के पहले से लड़ाई

अधिवक्ता का कहना है कि कोरोना काल के पहले से वह बालू माफि से लड़ाई लड़ रहे हें। जान की सुरक्षा को लेकर डीजीपी, मुख्य सचिव, बिहार के गृह सचिव और केंद्र से भी गुहार लगाई है। उनका कहना है कि वर्ष 2020 और 2021 में कोविड-19 की महामारी की स्थिति से पहले और विशेष रूप से बिहार में अवैध बालू खनन और खनन माफियाओं के साथ-साथ सरकारी अधिकारियों के खिलाफ कई जनहित याचिका लगाने के साथ वह आरटीआई की लड़ाई लड़ रहे हैं।

सरकार से कहा कहीं देर न हो जाए

अधिवक्ता का कहना है कि वह सीएम, डीजीपी बिहार, बिहार के मुख्य सचिव और गृह सचिव से कोई जवाब नहीं मिलने पर PM और गृहमंत्री से भी सुरक्षा की मांग कर चुके हैं। पहले 2018 में खतरे को देखते हुए उन्हें सरकारी सुरक्षा दी गई थी लेकिन बाद में हटा ली गई। मई 2021 से सुरक्षा वापस होने के बाद अब खतरा बढ़ गया है।

खबरें और भी हैं...